Top

मेरा मकसद-शहर को योगी जी का क्लीन-ग्रीन सिटी बनाना, सिटी मजिस्ट्रेट से कोई शिकवा नहींः चेयरपर्सन अंजू अग्रवाल

मुजफ्फरनगर। नगरपालिका परिषद् की अध्यक्ष निर्वाचित होने के बाद विपरीत परिस्थितियों में चुनौतियों के बीच ही शहरी विकास के लिए नये आयाम स्थापित कर रही अंजू अग्रवाल ने निकाय प्रभारी सिटी मजिस्ट्रेट के साथ हुई नोकझोंक को संस्पेंड लिपिक से मुख्य कार्यालय में बुलाकर पत्रावलियों की छायाप्रति कराने को लेकर तर्क वितर्क बताते हुए अपनी टिप्पणी पर खेद प्रकट करते हुए प्रकरण का पटाक्षेप कर शहरवासियों के हित में आगे बढ़ने की अपील की है। उन्होंने कहा कि मेरा उद्देश्य मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के क्लीन सिटी, ग्रीन सिटी के ड्रीम को पूर्ण करना है। इसमें जनता का सहयोग मुझे मिल रहा है।


हाल ही नगरपालिका परिषद् की अध्यक्ष के रूप में दो वर्ष का कार्यकाल कई उपलब्धियों के साथ पूर्ण करने वाली चेयरपर्सन अंजू अग्रवाल सोमवार को एक बार फिर से शहरी क्षेत्र में चल रहे विभिन्न निर्माण कार्यों, सफाई व्यवस्था आदि का निरीक्षण करने के लिए पालिका अफसरों और सभासदों के साथ सड़कों पर निकली थी। यहां प्रकाश चैक पर महान स्वतंत्रता सेनानी लाला लाजपत राय की प्रतिमा के चल रहे सौन्दर्यकरण कार्य का उन्होंने निरीक्षण किया।


इस अवसर पर पत्रकारों से वार्ता के दौरान उन्होंने कहा कि नगरपालिका बोर्ड की मुखिया के रूप में निर्वाचन के बाद उन्होंने शहर में महापुरुषों के स्मारकों के उद्धार और उनके सौन्दर्यकरण का संकल्प लिया था, जिसके प्रति वह आज भी प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही हैं। अमर शहीर मेजर आसाराम त्यागी की प्रमिमा स्थल के साथ ही महान स्वतंत्रता सेनानी महामना मदन मोहन मालवीय के स्मारक को हमने सौन्दर्यकरण कराकर जनता को समर्पित किया है। उन्होंने कहा कि इससे पहले अहिल्याबाई होल्कर प्रतिमा स्थल के आसपास अस्पताल चैराहे को सुन्दर और हरा भरा बनाया गया है। इसके साथ ही हम लाला लाजपतराय प्रतिमा स्थल, विश्वकर्मा चैक के सौन्दर्यकरण के साथ ही महावीर चैक पर एक आधुनिक और अभूतपूर्व यात्री शेड के निर्माण की तैयारी कर रहे हैं।


चेयरपर्सन अंजू अग्रवाल ने कहा कि गुणवत्ता के साथ मैं कभी समझौता नहीं करती। यही कारण है कि मेरे द्वारा लगातार निरीक्षण करते हुए निर्माण कार्यों की गुणवत्ता परखी जा रही है। उन्होंने ठेकेदार को आवश्यक दिशा निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि आज हम आजाद भारत में खुली सांस ले रहे हैं, हमें हर प्रकार की आजादी है। यह सभी कुछ महापुरुषों के बलिदान से ही हो पाया है। हमारा और समाज का दायित्व बनता है कि हम महापुरुषों के बलिदान को याद रखें और नई पीढ़ी को इनके आदर्श, संघर्ष और जीवन को बतायें। इसी उद्देश्य से महापुरुषों के प्रतिमा स्थलों का सुन्दरीकरण हो रहा है। ताकि युवाओं को इनसे एक प्रेरणा मिले।

मैंने जो टिप्पणी की, मुझे नहीं करनी चाहिए थी


इस अवसर पर नये साल पर सिटी मजिस्ट्रेट अतुल कुमार के पालिका का निरीक्षण करने के दौरान हुई नोकझोंक और आरोप प्रत्यारोप को लेकर चेयरपर्सन अंजू अग्रवाल ने कहा कि उनका उद्देश्य मुख्यमंत्री योगी जी के क्लीन सिटी ग्रीन सिटी के ड्रीम को पूरा कर आगे बढ़ाना है, शहर का विकास कराना है। हम इसी प्रयास में लगे हैं। उस दिन में शहर के वार्ड संख्या 24 में कार्यों का स्थलीय निरीक्षण कर रही थी। जब मैं पालिका पहुंची तो मुख्य कार्यालय में मेरे द्वारा सस्पेंड लिपिक ओमवीर सिंह महत्वपूर्ण पत्रावलियों की छाया प्रति कराने में व्यस्त थे, यह देखकर मुझे गुस्सा आ गया। इसी कारण मेरे द्वारा सिटी मजिस्ट्रेट से तर्क वितर्क किया गया और पालिका में उस दिन जो कुछ हुआ वह गलत हुआ, मैंने जो टिप्पणी की, मुझे नहीं करनी चाहिए थी, मुझे इसके लिए खेद हैं। हम सभी एक परिवार हैं, सभी का मकसद शहर का विकास और जनता का हित सर्वोपरि होना चाहिए। मैं सिटी मजिस्ट्रेट से भी अपील करती हूं कि वह भी आगे बढ़े। मुझे जनता का भरपूर सहयोग मिल रहा है और मेरे अधिकारी व कर्मचारी भी मेरे साथ हैं। बता दें कि चेयरपर्सन ने उस दिन सिटी मजिस्ट्रेट पर अनावश्यक रूप से पालिका प्रशासन के कार्यों में हस्तक्षेप करने और कमीशनखोरी को बढ़ावा देने के आरोप लगाये थे। जिसके बाद मामला काफी गरमा गया था।

निरीक्षण के दौरान नगरपालिका अध्यक्ष अंजू अग्रवाल के साथ उद्योगपति अभिषेक अग्रवाल, सभासद विकास गुप्ता, सभासद पति संजय सक्सेना, कार्यालय अधीक्षक पूरन चंद, लिपिक मनोज बालियान, बिजेंदर सिंह, अशोक ढींगरा, एसके बिट्टू एवं संबंधित विभाग के अन्य लोग मौजूद रहे।

सेहत

Top