Top

कोरोना टीकाकरण- नहीं है समुचित व्यवस्था, महिला पुरुष एक ही लाइन में

कोरोना टीकाकरण- नहीं है समुचित व्यवस्था, महिला पुरुष एक ही लाइन में

खतौली। शासन, प्रशासन और केंद्र सरकार लोगों को जागरूक करते हुए कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण कराने को प्रेरित कर रही है। लेकिन नगर का स्वास्थ्य विभाग लोगों को समुचित व्यवस्थाएं तक उपलब्ध कराने में विफल रहा है। जिसके चलते महिलाव पुरुषों को एक ही लाइन में खड़े होकर टीकाकरण का इंतजार करना पड़ रहा है।

देश में कोरोना की दूसरी लहर तेजी के साथ लोगों को अपने संक्रमण की चपेट में लेते हुए अपना कहर बरपा रही है। उधर केंद्र राज्य सरकारों की मदद से कोरोना संक्रमण के तेजी के साथ होते विस्तार को थामने की भरपूर कोशिश में लगा हुआ है। कोरोना संक्रमण के बढते मामलों की वजह से हालात यहां तक पहुंच चुके हैं कि लखनऊ, गाजियाबाद ओैर नोएडा समेत राज्य के कई जनपदों में कोरोना संक्रमण की चलते रात का कफ्र्यू लागू कर दिया गया है और वीकेंड पर लॉक डाउन की व्यवस्था कर दी गई है। ऐसे हालातों के बीच भी स्थानीय स्वास्थ्य विभाग कोरोना से बचाव के लिये लोगों की मदद करने से अपने हाथ पीछे खींच रहा है। केंद्र और राज्य सरकार की ओर से 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाने का अभियान चलाया जा रहा है। स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर भी क्षेत्र के 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को कोरोना टीकाकरण की व्यवस्था की गई है। लेकिन स्थानीय स्वास्थ्य विभाग लोगों को टीकाकरण केंद्र पर समुचित व्यवस्थाये तक उपलब्ध कराने में पूरी तरह से विफल रहा है।

हालात कुछ ऐसे बने हुए हैं कि महिला व पुरुषों को एक ही लाइन में खड़े होकर टीकाकरण के लिये अपनी बारी के आने का इंतजार करना पड़ रहा है। स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही से टीकाकरण केंद्र पर पूरी तरह से आपाधापी और अव्यवस्थाओं का आलम पसरा हुआ है। शिकायत किए जाने पर कोई भी समुचित जवाब देकर व्यवस्था बनाने की कोशिशें नहीं करता। ऐसे हालातों में यदि भारी संख्या में लोगों के कोरोना संक्रमण की चपेट में आने से नगर में भी हालात बिगड़ते हैं तो उसके लिए सिर्फ और सिर्फ स्वास्थ्य विभाग को ही जिम्मेदार बताया जाएगा।




epmty
epmty
Top