रक्तदान जीवनदान है,रक्तदान के लिए जागरूकता जरूरी : ब्रजेश पाठक

रक्तदान जीवनदान है,रक्तदान के लिए जागरूकता जरूरी : ब्रजेश पाठक

लखनऊ । ''रक्तदान महादान है'' और रक्तदान से बढ़कर दुनिया में कोई दूसरा दान नहीं हो सकता। रक्तदान के द्वारा सिर्फ किसी व्यक्ति के जीवन को ही हम नहीं बचाते बल्कि उसके घर परिवार की उम्मीदों, आशाओं और भविष्य को भी सुरक्षित कर सकते है। हम सबको रक्तदान करना चाहिए और रक्तदान करने वालों को प्रोत्साहित करना चाहिए।





मानवरक्त का कोई विकल्प नहीं है, इसे कृत्रिम रूप से निर्मित नहीं किया सकता


यह उद्गार आज यहां प्रदेश के विधायी एवं न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक ने महाराजा अग्रसेन पब्लिक स्कूल मोतीनगर में आयोजित रक्तदान शिविर में व्यक्त किए। इस शिाविर का आयोजन स्व0 रीता अग्रवाल की तृतीय पुण्यतिथि में आयोजित किया गया। रक्तदान शिविर में 30 लोगों द्वारा रक्तदान किया गया। उन्होंने कहा कि मानवरक्त का कोई विकल्प नहीं है, इसे कृत्रिम रूप से निर्मित नहीं किया सकता है। उन्होंने कहा कि रक्तदान से कमजोरी नहीं आती बल्कि शरीर में तेजी से रक्त बनता है।





रक्तदान के लिए जागरूकता उत्पन्न करने की अपील

प्रदेश के विधायी एवं न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा कि दुर्घटना आपरेशन तथा अन्य आपातकालीन परिस्थितियों में रक्त देकर किसी संकट में ग्रसित व्यक्ति का जीवन बचाया जा सकता है। संस्थाओं से अधिक से अधिक रक्तदान के लिए जागरूकता उत्पन्न करने की अपील की। इसके साथ ही रक्तदान शिविर के आयोजकों की सराहना भी की।

इंडियन रेडक्रास सोसाईटी और बलरामपुर चिकित्सालय के चिकित्सक एवं स्टाॅफ द्वारा रक्तदान शिविर का संचालन किया गया। रक्तदान शिविर में विशेष रूप से मोहन लाल अग्रवाल, राजेन्द्र अग्रवाल, भारत भूषण गुप्ता, अमर नाथ मिश्र, देशराज अग्रवाल, राजेन्द्र जायसवाल, मनोज हवेलिया, धर्मपाल अग्रवाल, सचिन कंचन, विक्रम गर्ग, शिवम सिन्हा, आदि बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

Top