विवेकानन्द यूथ अवार्ड योजना पुनः प्रारम्भ

विवेकानन्द यूथ अवार्ड योजना पुनः प्रारम्भ

लखनऊः उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा प्रान्तीय रक्षक दल/विकास दल एवं युवा कल्याण विभाग के अन्तर्गत विवेकानन्द यूथ अवार्ड योजना को पुनः संचालित करने के निर्देश दिये गये हैं। युवकों में रचनात्मक कार्य के प्रोत्साहन स्वरूप राष्ट्र निर्माण, धार्मिक सहिष्णुता, भाईचारे, कौमी एकता, शान्ति एवं सद्भाव तथा राष्ट्रीय एकीकरण हेतु शासन द्वारा विवेकानन्द यूथ अवार्ड योजना को पुनः संचालित कराने हेतु वर्तमान वित्तीय वर्ष 2017-18 में जनपद स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली इकाईयों को पुरस्कृत करने हेतु 03 लाख 75 हजार रूपये की धनराशि आवंटित कर दी गयी है। उल्लेखनीय है कि कई वर्षों तक योजना का संचालन किये जाने के उपरान्त बजट व्यवस्था न हो पाने के कारण गत वर्षों में से उक्त योजना का क्रियान्वयन नहीं हो पाया था।
उत्तर प्रदेश सरकार के निर्देशों के अनुपालन में महानिदेशक, प्रान्तीय रक्षक दल/विकास दल एवं युवा कल्याण विभाग द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार उक्त योजना के अन्तर्गत युवक मंगल दलों एवं महिला मंगल दलों में से जनपद स्तर पर प्रथम स्थान पाने वाली इकाई को पुरस्कृृत किये जाने हेतु 03 लाख 75 हजार रूपये की धनराशि का आवंटन किया गया है। उल्लेखनीय है कि विगत कई वर्षों से विवेकानन्द यूथ अवार्ड योजना बन्द हो गयी थी, जिसको वर्तमान सरकार द्वारा पुनः प्रारंभ कर युवकों को पुरस्कृत किये जाने का निर्णय लिया गया है।
शासनादेश के अनुसार विवेकानन्द यूथ अवार्ड योजनान्तर्गत युवक मंगल दलों एवं महिला मंगल दलों में से जनपद स्तर पर प्रथम स्थान पाने वाली एक इकाई को पुरस्कृृत किये जाने हेतु प्रति जनपद 05 हजार रूपये का आवंटन किया गया है।
उत्तर प्रदेश सरकार के निर्देश पर युवक एवं महिला मंगल दलों के कार्यकलापों/ उपलब्धियों के मात्राकरण का आंकलन करते हुये पूर्व में निर्धारित 10 बिन्दुओं को आवश्यकतानुसार घटाते और बढ़ाते हुये और अधिक व्यावहारिक बनाया गया है। पुराने दो बिन्दुओं सामाजिक वृृक्षारोपण एवं परिवार कल्याण का और सरलीकरण किया गया है। साथ ही खेल-कूद एवं अल्पबचत योजना के पुराने बिन्दुओं को यथावत बनाये रखते हुये रक्तदान, नशा मुक्ति, जल संरक्षण, पुस्तकालय/वाचनालय की स्थापना का संचालन, जैविक खेती, सौर ऊर्जा संयंत्र की स्थापना सम्बन्धित नये बिन्दु पुराने के स्थान पर लिये गये हैं।
गत एक वर्ष में प्रदेश में कुल 3744 नव युवक/महिला मंगल दलों (2302 युवक एवं 1442 महिला मंगल दल) का गठन किया गया है, जिनसे विभाग के अधिकारी सतत् सम्पर्क में है। इन दलों द्वारा स्वच्छता, वृक्षारोपण व जागरूकता कार्यक्रम में पर्याप्त रुचि ली गयी है। इन दलों के सदस्यों द्वारा लगभग 300 यूनिट रक्तदान भी किया गया है।

epmty
epmty
Top