Top

याद कराया समय- हम ही पिटते थे, हमारे ही खिलाफ होती थी FIR- संजीव बालियान

याद कराया समय- हम ही पिटते थे, हमारे ही खिलाफ होती थी FIR- संजीव बालियान

मुजफ्फरनगर। किसान-भाजपाईयों में भिड़ंत होने के बाद आज केन्द्रीय राज्य मंत्री ने शाहपुर स्थित एक भट्टे पर पंचायत की। इस दौरान उन्होंने लोगों को वह समय याद दिलाया, जब सोरम के लोग ही पिटते थे और उनके खिलाफ ही मुकदमे दर्ज होते थे।

केन्द्रीय मंत्री डाॅ. संजीव बालियान विगत दिवस की घटना के बाद आज शाहपुर के गांव चांदपुर के पास स्थित एक भट्टे पर पहुंचे। उन्होंने गांव सोरम के लोगों से कहा कि 2013 का वह समय याद करो, जब सोरम के कुछ लोगों को पीटा गया था और उन्हीं के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया गया था। इसके बाद मटिंग हुई थी, जिसमें राकेश टिकैत भी थे। मैं उस समय छोटा सा कार्यकर्ता था। मैं भी पंचायत में पहुंचा। इसके बाद एक सपा नेता से फैसला करवाने की बात की, तो उन्होंने कहा कि मेरे घर आओ, मैं कहीं नहीं जाता। इसके बाद एक व्यक्ति का घर तोड़ दिया गया, जिसमें एक को अरेस्ट कर लिया गया। उस दौरान वह दौर था कि कोई भी नहीं आया। न तो दिल्ली से और न ही लोकल स्तर से। हम ही थे, जो डटे रहे। क्या उस वक्त हमारा अपमान नहीं हुआ था। हम ही पिटे थे, हमारे ही खिलाफ मुकदमा हुआ था और हम पंचायत करने लायक तक नहीं रहे थे। कवाल का दंगा हुआ, सोरम के और काकड़ा के भाई मारे गये। कोई भी घायल का हाल-चाल पूछने नहीं आया। वे दिल्ली वाले नेता, जो कल ट्वीट कर रहे थे, वे उस वक्त कहां थे। हम ही थे, जो चक्कर काट रहे थे। उन्होंने कहा कि बच्चों के बीच में थोड़ी हाथापाई क्या हो गई कि इस मामले को इतना तूल दे दिया। उन्होंने कहा कि सोरम हमारा अपना गांव है। किसी के बहकावे में न आये। दिल्ली वाले बड़े नेता समाज को तोड़ना चाहते हैं, उनके बहकावे में न आएं।

epmty
epmty
Top