देवभूमि में अगर ऐसे ही नशे के सौदागर बेलगाम घूमते रहेंगे तो बन जायेगा उड़ता हिमाचल

देवभूमि में अगर ऐसे ही नशे के सौदागर बेलगाम घूमते रहेंगे तो बन जायेगा उड़ता हिमाचल

जितेंद्र गुप्ता 'सोनू' (आनी)। देवभूमि में अगर ऐसे ही नशे के सौदागर बेलगाम घूमते रहेंगे तो वह दिन दूर नहीं जब उड़ता पंजाब के बाद अब उड़ता हिमाचल बनेगा, क्योंकि जिस तरह से प्रदेश के विभिन्न जिलों में नशे के धंधे में लिप्त छोटी मछलियों को पकड़ा जा रहा है, उससे यह तो तय है कि हिमाचल उड़ने की कगार पर खड़ा है।

एक राष्ट्रीय पर्वतारोही डा.ललित मोहन ने जिस तरह से श्रीखण्ड यात्रा के दौरान हो रहे नशे के कारोबार के ज्वलंत मुद्दे को उजागार किया है, वह कहीं न कहीं इस तंत्र पर भी प्रश्नचिन्ह लगाता है कि आखिर यह मुद्दा आजतक उजागर क्यों नहीं हुआ ? कहीं मिलीभगत की बू भी जरूर आ रही है।

आजीविका कमाना बुरी बात नहीं, लेकिन युवा पीढ़ी को नशे की सप्लाई करके आने परिवार का पालन पोषण करना न केवल दण्डनीय अपराध है, बल्कि पाप भी है। अगर इसे समय रहते रोका न गया तो हालात ना केवल श्रीखण्ड यात्रा के दौरान बल्कि हर रोज बदतर होने वाले हैं।

क्योंकि जो लोग इस कठिन यात्रा के दौरान विषम परिस्थितियों में नशे का सेवन कर सकते हैं वे नशे के आदि बन जाएंगे और उनका और उनके परिजनों का जीवन बर्बादी की डगर पर चला जायेगा।

इसलिये यह हम सभी का दायित्व बनता है कि ऐसे रास्ते के निर्माण को रोक दिया जाए जो गर्त की ओर ले जा रहा है।

epmty
epmty
Top