Top

रेल के डिब्बों में तैनात होंगी 'मेरी सहेली'

रेल के डिब्बों में तैनात होंगी मेरी सहेली

अहमदाबाद। पश्चिम रेलवे ने अनूठी पहल ''मेरी सहेली" मुख्य रूप से दो ट्रेनों में शुरू की है। यह पहल न केवल महिला यात्रियों को सुरक्षा प्रदान करेगी, बल्कि उन्हें मानसिक शांति, आरामदायक और सुखद यात्रा का अनुभव भी प्रदान करेगी।

मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी सुमित ठाकुर की ओर से यहां रविवार को जारी विज्ञप्ति के अनुसार "मेरी सहेली" पहल का उद्देश्य ट्रेनों से यात्रा करने वाली महिला यात्रियों को उनकी पूरी यात्रा में गंतव्य स्टेशन तक बेहतरीन सुरक्षा प्रदान करना है। इस पहल के तहत महिला अधिकारी और कर्मचारियों की एक टीम बनाई गई है। यह टीम महिला यात्रियों की पहचान सुनिश्चित करने के लिए लेडीज कोच सहित सभी यात्री डिब्बों का दौरा करेगी। उनकी यात्रा का विवरण जैसे कोच नम्बर और सीट नम्बर टीम द्वारा नोट किया जाएगा। खासकर अगर एक महिला ट्रेन में अकेली यात्रा कर रही हो।


इन महिला यात्रियों को आरपीएफ सुरक्षा हेल्पलाइन नम्बर 182, जीआरपी सुरक्षा हेल्पलाइन नम्बर 1512 और अन्य सावधानियों के बारे में जानकारी दी जाएगी। उदाहरण के लिए, अजनबियों से भोजन नहीं लेने, केवल आईआरसीटीसी अधिकृत स्टॉल से भोजन खरीदने और अपने सामान की समुचित देखभाल करने के लिए उन्हें खास टिप्स दिए जायेंगे। टीम उन्हें किसी भी आपात स्थिति के लिए ट्रेन एस्कॉर्ट पार्टी से सम्पर्क करने और 182 डायल करने के लिए स्वतंत्र महसूस करने की भी सलाह देगी। महिला यात्रियों के विवरण से सम्बंधित मंडलों और क्षेत्रीय रेल कार्यालयों को अवगत कराया जायेगा, ताकि उनके अंतिम गंतव्य तक पहुंचने तक उनकी समुचित सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके। यात्रा के अंत में महिला यात्रियों से उनके यात्रा के अनुभव और उठाए गए सुरक्षा उपायों के बारे में प्रतिक्रिया ली जाएगी।

सुमित ठाकुर ने कहा कि पश्चिम रेलवे द्वारा यह अनूठी पहल मुख्य रूप से दो ट्रेनों में शुरू की गई है जिनमें ट्रेन नम्बर 12955 मुंबई सेंट्रल - जयपुर सुपरफास्ट एक्सप्रेस और ट्रेन नम्बर 02925 बांद्रा टर्मिनस - अमृतसर स्पेशल ट्रेन शामिल हैं। "मेरी सहेली" पहल न केवल महिला यात्रियों को सुरक्षा प्रदान करेगी, बल्कि उन्हें मानसिक शांति, आरामदायक और सुखद यात्रा का अनुभव भी प्रदान करेगी।

epmty
epmty
Top