Top

विधानसभा चुनाव- पार्टी की जीत पर मंदिर में महिला ने काटकर चढ़ाई जीभ

विधानसभा चुनाव- पार्टी की जीत पर मंदिर में महिला ने काटकर चढ़ाई जीभ

नई दिल्ली। तमिलनाडु में हुए विधानसभा चुनाव में मनमाफिक जीत हासिल होने पर महिला ने लिये गये संकल्प को पूरा करते हुए अपनी जीभ काटकर मंदिर में चढ़ा दी। मामले का पता चलने पर तत्काल की महिला को इलाज के लिए अस्पताल में ले जाया गया है।

आमतौर पर देखा गया है कि बड़े नेताओं की किसी भी दल से निष्ठा केवल उसी समय तक जुड़ी रहती हैं। जब तक वह पार्टी सत्ता में या वजूद धारी रहती है। जैसे ही पार्टी का वजूद कम हुआ और उसकी हार के अवसर दिखाई देने लगे तो नेता तुरंत ही उस पार्टी को छोड़कर दूसरे दल में शामिल होकर अपना भविष्य संवारने लगते हैं। लेकिन कार्यकर्ता आखिर तक भी अपने दल का पीछा नहीं छोड़ता और उसकी निष्ठाए हमेशा अपने दल के साथ जुड़ी रहती हैं। इसी तरह तमिलनाडु की 32 वर्षीय महिला वनिता ने विधानसभा चुनाव में द्रविड़ मुन्नेत्र कषगम यानी डीएमके द्वारा जीत हासिल करने के बाद मंदिर के देवता को अपनी जीभ काटकर समर्पित करने का संकल्प लिया था।

वर्ष 2021 के विधानसभा चुनाव की रविवार को हुई मतगणना के बाद जब परिणाम सामने आए तो डीएमके को भारी जीत के साथ राज्य में सत्ता करने का मौका मिला। डीएमके की जीत पर ईश्वर के बलिदान के रूप में लिया गया संकल्प पूरा करने को वनिता सोमवार की सवेरे मुथलम्मन मंदिर में पहुंची और अपनी जीभ काटकर मंदिर के देवता को अर्पित करने की कोशिश की। लेकिन राज्य में कोरोना संक्रमण के कारण पूजा स्थलों पर लागू कोरोना से संबंधित प्रतिबंधों के कारण वनिता ने मंदिर के द्वार पर ही अपनी कटी हुई जीभ छोड़ दी। इस दौरान वह एक दीवार से टकरा गई। तुरंत ही मंदिर प्रबंधन की ओर से पुलिस को सूचना दी गई। महिला को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है। गौरतलब है कि लगभग एक दशक के बाद डीएमके ने तमिलनाडु में अपनी कट्टर प्रतिद्वंदी एआईएडीएमके को विधान सभा चुनावों में हराते हुए ठोस जीत हासिल की है। सत्ताधारी दल राज्य में एक मजबूत विरोधी के तौर पर उभरा है। तमिल नाडु में एमके स्टालिन के नेतृत्व में डीएमके ने स्पष्ट बहुमत के साथ जीत हासिल की है। एमके स्टालिन के नेतृत्व में द्रमुक गठबंधन के खाते में 151 सीटों पर जीत दर्ज की है। वह तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के तौर पर आगामी 7 मई को शपथ लेने जा रहे हैं।

epmty
epmty
Top