दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री 81 वर्षीय शीला दीक्षित का निधन

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री 81 वर्षीय शीला दीक्षित का निधन

नई दिल्ली। कांग्रेस की वरिष्ठ नेता व 15 साल तक देश की राजधानी दिल्ली की 81 वर्षीय पूर्व सीएम शीला दीक्षित का आज एस्कॉर्ट अस्पताल में निधन हो गया। वे लंबे समय से बीमार चल रही थीं। पेसमेकर के ठीक से काम न करने पर आज सुबह उन्हें दिल्ली के एस्कॉर्ट अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था। फिलहाल वे दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष की थी।

शीला दीक्षित के निधन से कांग्रेस को अपूर्णिय क्षति माना जा रहा है। उनके निधन की सूचना से पीएम नरेन्द्र मोदी,दिल्ली सीएम अरविन्द केजरीवाल, गृहमंत्री अमित शाह व रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सहित सोनिया गांधी, राहुल गांधी सहित कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने शोक व्यक्त किया है।

कांग्रेस की कद्दावर नेता रहीं शीला दीक्षित का जन्म 31 मार्च 1938 को पंजाब के कपूरथला में हुआ था। उन्होंने दिल्ली के कॉन्वेंट ऑफ जीसस एंड मैरी स्कूल से पढ़ाई की और दिल्ली यूनिवर्सिटी के मिरांडा हाउस कॉलेज से मास्टर्स ऑफ आर्ट्स की डिग्री हासिल की थी। इनका विवाह प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी तथा पूर्व राज्यपाल व केन्द्रीय मंत्रिमंडल में मंत्री रहे, श्री उमाशंकर दीक्षित के परिवार में हुआ। इनके पति विनोद दीक्षित भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी थे। ये अपने पीछे एक पुत्र व एक पुत्री के परिवार को रोता-बिलखता छोड़कर संसार से विदा हुई हैं।

शीला दीक्षित को राजनीति में प्रशासन व संसदीय कार्यों का अच्छा अनुभव था। इन्होंने केन्द्रीय सरकार में 1986 से 1989 तक मंत्री भी रही। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस समिति की अध्यक्ष रहते हुए शीला दीक्षित ने 1998 में कांग्रेस को दिल्ली में अभूतपूर्व विजय दिलायी थी। 2008 में शीला दीक्षित के नेतृत्व में कांग्रेस ने 70 में से 43 सीटें जीतीं थी।

शीला दीक्षित साल 1984 से 1989 तक उत्तर प्रदेश के कन्नौज से सांसद रहीं। इस दौरान वे लोकसभा की एस्टिमेट्स कमिटी का हिस्सा भी रहीं। शीला दीक्षित को दिल्ली का चेहरा बदलने का श्रेय दिया जाता है। उन्होंने महिलाओं की स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र आयोग में 1984-1989 तक 5 साल भारत का प्रतिनिधित्व किया था। वे प्रधानमंत्री कार्यालय में संसदीय कार्यराज्यमंत्री रहीं थी। शीला दीक्षित दिल्ली के गोल मार्केट क्षेत्र से 1998 और 2003 से चुनी गईं थी। इसके बाद उन्होंने 2008 में नई दिल्ली क्षेत्र से चुनाव लड़ा था।

ग्रामीण रंगशाला व नाट्यशालाओं का विकास, शीला दीक्षित का प्रिय क्षेत्र रहा है।

epmty
epmty
Top