बीएसपी विधायकों ने राजस्थान में स्टेबल गवर्नमेंट रहे इस हित में कदम उठाया है : अशोक गहलोत

बीएसपी विधायकों ने राजस्थान में स्टेबल गवर्नमेंट रहे इस हित में कदम उठाया है : अशोक गहलोत

जयपुर । राजस्थान में बीएसपी के सभी छह विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए यह बीएसपी के लिए तगड़ा झटका है ,अपने विधायकों के दल-बदल को लेकर बीएसपी सुप्रीमो मायावती कांग्रेस पर जमकर बरसी हैं।बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कहा कि कांग्रेस उन पार्टियों को हमेशा चोट पहुंचाती है जो उसे समर्थन देती हैं।



बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने एक के बाद एक ट्वीट करके कांग्रेस को दलित विरोधी और धोखेबाज बताते हुए जमकर भड़ास निकाली।



राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मीडिया को सम्बोधित करते हुए कहा बीएसपी विधायकों ने राज्य में स्टेबल गवर्नमेंट रहे इस सोच के साथ प्रदेश के हित में यह कदम उठाया है, मैं उनका स्वागत करता हूं। हम लोग चुनाव जीत कर आते हैं, पहली सोच यह होनी चाहिए कि स्टेबल गवर्नमेंट कैसे रहे और राज्य प्रगति कैसे करे।




अशोक गहलोत ने बोला मायावती ने जो कहा है, मैं समझता हूं उनका ऐसा रिएक्शन स्वाभाविक है...परंतु उनको यह भी समझना पड़ेगा कि यह सरकार में बैठे हुए लोगों ने मैनेज नहीं किया है, कोई प्रलोभन नहीं दिया है और यह हमारे प्रदेश की खूबी है कि हमने कभी हॉर्स ट्रेडिंग नहीं की है।



पहले भी हम लोग सरकार में थे तब भी बीएसपी के 6 लोग ज्वाइन किए थे, आज तक इतिहास में हमने कभी किसी को प्रलोभन नहीं दिया है यह कोई कम बात है क्या?और यही हमारे विधायक अगर दूसरे राज्यों में होते तो मैं समझता हूं कि बड़े रूप में हॉर्स ट्रेडिंग होती कोई कल्पना भी नहीं कर सकता।



विधायकों ने राजस्थान की स्थिति देखी, क्षेत्र के लोगों की भावनाएं देखी कि हमें काम करवाने हैं, विकास करवाना है, सरकार के साथ जुड़कर करवा सकते हैं और सरकार भी स्टेबल रहनी चाहिए, यह सोच कर उन्होंने फैसला किया, हमने उन पर कोई दबाव नहीं बनाया,उसके बाद फैसला होना स्वाभाविक फैसला है।



देश के अंदर सब पार्टियों के साथ में जब कभी एलायंस हुआ है तो हम तो उन लोगों में है जो सोनिया गांधी जी, राहुल गांधी जी की भावना को समझते हुए, हमेशा मायावती के साथ में खड़े मिले हैं...इस बात को वे स्वयं मेरे बारे में जानती हैं।

Top