Top

नशे के अवैध कारोबार पर आईपीएस अजय का वार, ईनामी कुख्यात गर्दा गिरफ्तार

नशे के अवैध कारोबार पर आईपीएस अजय का वार, ईनामी कुख्यात गर्दा गिरफ्तार

शामली। नशे के अवैध कारोबार को रोकने के लिए जनपद शामली में एसपी अजय कुमार ने संवेदनशीलता के साथ बड़ा अभियान छेड़ रखा है। एसपी के नशीले पदार्थों के अवैध कारोबार पर किये जा ने वार का ही असर है कि आज पुलिस 20 हजार रुपये के ईनामी कुख्यात अंतर्राज्यीय ड्रग माफिया 'गर्दा' को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है। कुख्यात 'गर्दा' कई जिलों के साथ ही आसपास के राज्यों में नशीले पदार्थ का अवैध कारोबार करने में लिप्त था। उसकी काफी दिनों से पुलिस को तलाश थी। कुख्यात 'गर्दा' हाईवे और मुख्य मार्गों पर बने ढाबों व होटलों पर भी नशीले पदार्थ का कारोबार कर रहा था। एसपी अजय कुमार ने पुलिस टीम की प्रशंसा करते हुए पुरस्कृत करने का ऐलान भी किया है।


एसपी अजय कुमार ने आपराधिक घटनाओं पर अंकुश लगाने में उत्कृष्ट सफलता अर्जित की है। पुलिस विभाग में निष्पक्ष और निर्भीक अफसर के रूप में पहचान बनाने वाले आईपीएस अजय कुमार ने जनपद शामली को ड्रग फ्री करने के लिए अभियान चलाया है। उन्होंने जनपद में नशीला पदार्थ बेचने वालों और गिरोह बन्द लोगों की धरपकड़ के निर्देश सभी थानों को दिये हैं। इसके लिए पुलिस लगातार नशे का अवैध कारोबार करने वालों की तलाश में जुटी है। इसी कड़ी में थाना झिंझाना पुलिस को एक बड़ी कामयाबी हासिल हुर्ठ। पुलिस ने 20,000 रुपेय के इनामिया अपराधी और कुख्यात अंतर्राज्यीय ड्रग माफिया वाहिद उर्फ गर्दा निवासी गंगोह को गिरफ्तार करने में सफलता अर्जित की है। पुलिस को वाहिद उर्फ गर्दा की काफी दिनों से तलाश थी, लेकिन पुलिस उस तक पहुंच नहीं पा रही थी। एसपी शामली ने कई टीमों को इसके लिए लगाया हुआ था। करीब 4 महीने पहले, इस अभियुक्त व इसके साथियों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी गई थी। इस दबिश में पुलिस ने करीब 20 क्विण्टल से अधिक मात्रा में डोडा चूर्ण बरामद हुआ था। 3 बदमाश गिरफ्तार हुए थे, मगर इस गिरोह का सरगना ड्रग माफिया वाहिद उर्फ गुर्दा मौके से फरार हो गया था। इसके बाद से ही वाहिद की तलाश और तेज कर दी गयी थी। पुलिस को उसके गिरोह से बरामद नशीला पदार्थ काफी बड़ी मात्रा में था। शामली पुलिस द्वारा किये गये इस खुलासे को यूपी पुलिस की बड़ी सफलता माना गया था, क्योंकि यह उत्तर प्रदेश की अब तक की एक बार में नशीले पदार्थ की सबसे बड़ी बरामदगी थी।

एसपी शामली अजय कुमार बताते हैं, कि उस रेड में गिरफ्तार बदमाशों से की गयी पूछताछ में यह बात सामने आई थी कि नशे की यह खेप ये बदमाश राजस्थान व मध्य प्रदेश की सीमा पर स्थित इलाकों से अलग अलग रास्तों से लेकर जनपद में आते हैं और इसके बाद इस नशीले पदार्थ को मेरठ-करनाल रोड पर स्थित ढाबों पर सप्लाई करते हैं। इसमें पूरा गिरोह शामिल रहता है। यह गिरोह अलग अलग टीमों में काम करता है और दूसरों राज्यों से जनपद में माल पहुंचाने की जिम्मेदारी दूसरे बदमाशों की रहती है, जबकि इस नशीले पदार्थ को ग्राहकों तक पहुंचाने के लिए दूसरी टीमों में शामिल बदमाश काम करते हैं। उन्होंने कहा कि थाना झिंझाना पुलिस ने बेहतर परिणाम के साथ काम किया है और हम गिरोह के सरगना व ड्रग माफिया कुख्यात ईनामी बदमाश वाहिद गर्दा तक पहुंचने में सफल रहे हैं। इसकी गिरफ्तारी से कैराना-झिंझाना इलाके में काम कर रहे नशे के सौदागरों का रैकेट पूरी तरह ध्वस्त हो गया है। पुलिस टीम की उन्होंने प्रशंसा की है।

20-20 हजार रुपये के दो वांछित ईनामी भी दबोचे


शामली पुलिस ने 2 नवम्बर को चलाये गये ऑपरेशन चक्रव्यूह के दौरान बड़ी कामयाबी पाई। एसपी शामली अजय कुमार के ऑपरेशन चक्रव्यूह में अपराधियों की घेराबन्दी करते हुए उनको दबोचा जा रहा है। शनिवार को समय 13.15 बजे थाना कैराना पुलिस ने ग्राम रामड़ा से 01 अभियुक्त सोनू पुत्र खैनक निवासी मौहल्ला पुलाहेवाला कस्बा थाना दोघट जनपद बागपत को गिरफ्तार करने में सफलता पाई, जिसके कब्जे से 01 तमंचा 315 बोर मय 03 जिन्दा कारतूस बरामद हुए, जिसके विरुद्ध थाना कैराना पर मु0अ0सं0 687/19 धारा 3/25 आयुध अधिनियम पंजीकृत किया गया। इसके अलावा कैराना कोतवाली पर ही दर्ज मु0अ0सं0 503/18 धारा 23 गैंगस्टर अधिनियम में वांछित चल रहे अपराधी दिलशाद पुत्र समयदीन निवासी ग्राम मन्सूरा थाना झिंझाना जनपद शामली को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की।

epmty
epmty
Top