Top

बदमाशों के लिए यमदूत बनी यूपी पुलिस शामली आजमगढ़ के बाद अब मुजफ्फरनगर में 50000 का इनामी नितिन ढेर

बदमाशों के लिए यमदूत बनी यूपी पुलिस शामली आजमगढ़ के बाद अब मुजफ्फरनगर में 50000 का इनामी नितिन ढेर

गौरतलब है कि जब उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में भाजपा की सरकार बनी तो शपथ ग्रहण के बाद मुख्यमंत्री ने कानून व्यवस्था सुधारने के मकसद से स्पष्ट कर दिया था कि बदमाश या तो प्रदेश छोड़ दे या अपराध को छोड़ दे। सरकार बनने के बाद जब कानून व्यवस्था नहीं सुधरी तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रमुख सचिव गृह , डीजीपी और एडीजीपी कानून व्यवस्था को बदलकर प्रमुख सचिव गृह की जिम्मेदारी आईएएस अफसर अरविंद कुमार को तो डीजीपी सुलखान सिंह को बनाया गया एडीजीपी आदित्य मिश्रा को बनाया गया था लेकिन कुछ दिनों बाद आदित्य मिश्रा को हटाकर उत्तर प्रदेश का अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था तेज तर्रार आईपीएस अफसर आनंद कुमार को बनाया गयाचार्ज संभालने के बाद आनंद कुमार ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रमुख सचिव गृह और डीजीपी की मंशा से सभी जिलों के कप्तानों को अवगत कराते हुए आदेश दिया कि अब पुलिस बदमाशों पर भारी पड़नी चाहिए और उसका रिजल्ट भी आया उत्तर प्रदेश खासकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अपराधी बड़े पैमाने पर इनामी बने हुए थे लेकिन पुलिस की गिरफ्त से बाहर थे आनंद कुमार ने चूंकि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सहारनपुर मुजफ्फरनगर गाजियाबाद जैसे-जैसे जनपदों में बतौर कप्तान तैनात रह चुके हैं इसलिए वह इस क्षेत्र की आबोहवा को जानते थे आनंद कुमार की सख्त अफसर की छवि है तो पुलिस भी सख्ती के मूड में आ गई इनामी अपराधियों के खिलाफ अभियान चलाया गया और सरकार बनने से अब तक सात सौ से ज्यादा इनामी अपराधियों को पुलिस गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है इसके साथ ही शामली के एसपी शामली डॉक्टर अजय पाल शर्मा ने सबसे पहले उस कैराना कस्बे में 50000 के इनामी नौशाद डेनी को उसके साथी सहित मार गिराया जहां अपराधियों का बोलबाला था और रंगदारी की घटना अक्सर होती रहती थी भाजपा सांसद हुकुम सिंह ने इस मुद्दे को उठाते हुए कहा था की रंगदारी की वजह से कैराना के व्यापारी पलायन कर रहे हैं उसी कैराना में उत्तर प्रदेश मैं सालों बाद सालों बाद एनकाउंटर की शुरुआत हुई शामली के बाद आजमगढ़ के SP अजय साहनी के नेतृत्व में जब पुलिस का मुकाबला 15000 के नामी जय हिंद यादव से हुआ तो आमने सामने की इस मुठभेड़ में जय हिंद यादव मौत के काल में समा गए पुलिस के एनकाउंटर की प्रशंसा हुई इन मुठभेड़ों के बाद आज एनकाउंटर स्पेशलिस्ट माने जाने वाले मुजफ्फरनगर के एसएसपी आनंद देव तिवारी के नेतृत्व में 50000 का इनामी नितिन निवासी बुलंदशहर को मीरापुर इलाके के नगला खेपड गांव में पुलिस से हुई मुठभेड़ में के बाद एनकाउंटर में मारा गया लगातार एनकाउंटर से अपराधियों में पुलिस का खौफ फिर से नजर आने लगा है जो यूपी की कानून व्यवस्था को पटरी पर ला सकता है
यह है मुज़फ्फरनगर का एनकॉउंटर
मुजफ्फरनगर । पुलिस के मुताबिक, मृतक बदमाश नितिन अपने एक साथी के साथ मीरापुर थाना क्षेत्र के खेपड़ नंगला गांव में एक किसान श्यामवीर की हत्या करने आया था. जब किसान श्यामवीर अपने बेटों के साथ सुबह खेत पहुंचे तो बाइक सवार अज्ञात बदमाशों को देखकर उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी.
सूचना पर मीरापुर पुलिस और क्राइम ब्रांच की संयुक्त टीम ने घेराबंदी कर बदमाशों को घेर लिया. पुलिस से घिरा देख बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी. जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने भी बदमाशों पर फायरिंग शुरू कर दी. कई घंटों तक चली इस मुठभेड़ में बुलंदशहर निवासी 50 हजार का इनामी बदमाश नितिन की मौत हो गई. इस मुठभेड़ में एक दरोगा सहित दो पुलिस कर्मी भी गोली लगने से घायल हुए हैं, जिन्हें उपचार के लिए मेरठ रेफर किया गया है. मृतक बदमाश पर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई जनपदों के थाना क्षेत्रो में दर्जनों आपराधिक मामले दर्ज थे.
अनंन्तदेव ने भी दिखाए तेवर
उम्मीद के मुताबिक एसएसपी मुजफ्फरनगर ने भी 50000 के इनामी नितिन को किया ढेर
दरअसल आईपीएस अफसर अनंत देव तिवारी को एनकाउंटर स्पेशलिस्ट कहा जाता है जब उनकी पोस्टिंग मुजफ्फरनगर में पुलिस कप्तान के रूप में हुई तो रमजान फिर ईद और उसके बाद कावड़ यात्रा शुरू हो गई मुजफ्फरनगर को संवेदनशील जनपद माना जाता है इसलिए अनंत देव तिवारी इन धार्मिक आयोजनों को सकुशल संपन्न कराने के लिए लगे रहे उसका नतीजा रहा कि कार्यक्रम शांति से लिपट गए कावड़ यात्रा के बाद अनंत देव तिवारी इनामी अपराधियों के पीछे लग गए कोतवाली नगर पुलिस खतौली पुलिस सहित कई थानों की पुलिस ने अनंत देव तिवारी के नेतृत्व में कई नामी बदमाशों को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर बड़े घर को रवाना करने का काम किया इसके बाद एसएसपी अनंत देव तिवारी को सूचना मिली कि बुलंदशहर का इनामी बदमाश नितिन मुजफ्फरनगर के मीरापुर थाना इलाके के गांव नगला क्षेत्र में पुरानी रंजिश के चलते किसी की हत्या करने आने वाला है इस इनपुट के बाद अनंत देव तिवारी के नेतृत्व में सुपरकॉप कहे जाने वाले सीओ जानसठ एसकेएस प्रताप ने टीम बनाकर काम करना शुरु कर दिया और उसका नतीजा आया की मुजफ्फरनगर पुलिस के खाते में एक बड़ा गुडवर्क जुड़ा और और उत्तर प्रदेश में योगी सरकार के समय में यह बदमाशों का चौथा एनकाउंटर है इससे आम जनता खुश तो अपराधियो में खाकी का ख़ौफ़ बन गया है
जब लगे कप्तान साहब जिंदाबाद के नारे
आज जब मुजफ्फरनगर के नगला खेपड गांव में पुलिस से आमने सामने की मुठभेड़ में 50000 का इनामी बदमाश नितिन मारा गया तो ग्रामीणों ने मौके पर पहुंचे एसएसपी अनंत देव तिवारी को कंधे पर उठा लिया और कप्तान साहब जिंदाबाद के नारे लगाने लगे ग्रामीणों का उत्साह ऐसा था की SSP के मना करने के बाद भी ग्रामीण काफी दूर तक उन्हें कंधे पर बैठा कर लाए और जिंदाबाद के नारे लगाते रहे.

epmty
epmty
Top