डायल-112 में इंस्पेक्टर जी.सी. शर्मा का बर्थ डे, एसएसपी अभिषेक यादव ने भेजी बधाई

मुजफ्फरनगर अयोध्या केस का तब अब फैसला आने वाला है, अफसर हो या आम जन सभी के बीच एक अजीबोगरीब सा तनाव नजर आता है। आम जनता ''कुछ हो ना जाये'' की तैयारी के लिए आटा दाल जुटा रहा है तो अफसर ''कुछ होने नहीं देंगे '' का दृढ़ संकल्प लेकर दिन और रात जनता के बीच एक सकारात्मक विश्वास को पुख्ता करने के लिए अपनी तीर-ओ-तरकश को दुरुस्त करने में जुटे हुए हैं, ऐसे तनाव के बीच पुलिस प्रशासन में हंसी खुशी का माहौल भी नजर आता है। पार्टी होती हैं और कार्य स्थल पर गूंजता है, एसएसपी अभिषेक का "हैप्पी बर्थ डे टू यू ", पुलिस कप्तान का यह प्रेरणादायी संदेश। आज तनाव के वातावरण में भी पुलिस फोर्स को मनोबल बढ़ाने के साथ ही फोर्स के बीच एक पारिवारिक और भाईचारे का माहौल भी बना रहा है। इसी परम्परा के बीच आज पुलिस कर्मियों ने डायल-112 के प्रभारी निरीक्षक जी.सी. शर्मा का भी कार्यालय में बर्थ डे मनाया गया। इस दौरान पार्टी हुई और केक काटा गया। इसी बीच एसएसपी अभिषेक यादव का बधाई संदेश भी जी.सी. शर्मा को मिला, जो उनके लिए यादगार रहा।


एसएसपी अभिषेक यादव का प्रेरणादायी बर्थ डे अभियान


बता दें कि हाल ही में यूपी डायल 100 को डायल 112 में परिवर्तित किया गया है। इस बदलाव के साथ कई आपातकालीन सेवाओं को एक ही नम्बर से जोड़ा गया है। जनपद में डायल-112 के प्रभारी निरीक्षक का दायित्व इंस्पेक्टर जी.सी. शर्मा संभाल रहे हैं। जनपद में पुलिस मनोबल को बढ़ाने और उनको थानों, चौकियों के साथ ही कार्यस्थल पर ही एक पारिवारिक माहौल देकर उनके बीच उपजते तनाव को कम करने के उद्देश्य से एसएसपी अभिषेक यादव ने प्रेरणादायी बर्थ डे अभियान चलाया है। इस अभियान में डायल 112 प्रभारी इंस्पेक्टर जी.सी. शर्मा का जन्मदिन भी मुख्यालय पर धूमधाम से मनाया गया। फूलों के बुके के साथ उनको एसएसपी अभिषेक यादव का बधाई संदेश भी दिया गया। पुलिस कप्तान का संदेश पाकर उन्होंने खुशी जतायी, केक काटा गया और धूमधाम से पार्टी का आयोजन किया गया। इससे डायल-112 के मुख्यालय में जश्न का माहौल बना नजर आया।


एसएसपी अभिषेक यादव का हैप्पी बर्थ डे अभियान पुलिस कर्मियों के बीच खुशी और उल्लास


एसएसपी अभिषेक यादव का हैप्पी बर्थ डे अभियान लगातार जनपद में पुलिस कर्मियों के बीच खुशी और उल्लास का कारण बना हुआ है। थानों और चौकियों के साथ ही जनपद में पुलिस कार्यालयों में भी कर्मचारियों का बर्थ डे मनाया जा रहा है। थानों में जो नित्य प्रतिदिन जश्न का माहौल है। तनाव के बीच अपनी ड्यूटी को निरंतर मुस्तैदी से अंजाम देने वाले पुलिस कर्मियों के बीच कप्तान का यह अभियान कमाल कर रहा है। पुलिस फोर्स में पहली बार एक पारिवारिक वातावरण बना नजर आता था। थानों में सजावट दिखती है और यहां होने वाली पार्टियां अब एक नया किस्सा बयां करती हैं।


इंस्पेक्टर जी.सी. शर्मा की कार्यप्रणाली लाजवाब


पिछले करीब 10 माह से पुलिस आपात सेवा की जिम्मेदारी संभाल रहे इंस्पेक्टर जी.सी. शर्मा की कार्यप्रणाली लाजवाब रही है। पुलिस विभाग में सराहनीय सेवा और उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए इंस्पेक्टर जी.सी. शर्मा को साल 2019 में गणतंत्र दिवस (15 अगस्त) के दिन राष्ट्रपति पदक से सम्मानित किया जा चुका है। इसके अलावा भी उनको अनेक मेडल और पुरस्कार मिल चुके हैं, लेकिन अपनी पुलिस सर्विस का सबसे बड़ा ईनाम वह जनता के हाथों मिले उस सम्मान को मानते हैं, जो उन्होंने मुजफ्फरनगर जनपद के चरथावल थाना प्रभारी के रूप में एक डबल मर्डर का खुलासा करते हुए हासिल किया था। जी.सी. शर्मा साल 1982-83 बैच की सीधी भर्ती के अन्तर्गत पुलिस विभाग में उप निरीक्षक बने। ट्रैनिंग के बाद वह मुख्य रूप से हरदोई, आगरा, मथुरा, सहारनपुर, बिजनौर और मुरादाबाद जनपदों में तैनात रहे। सर्विस का काफी अच्छा समय उन्होंने थानों में इंचार्ज रहकर गुजारा है। 2013 में उनको इंस्पेक्टर के रूप में प्रमोशन दिया गया। इसके बाद वह बिजनौर जनपद की धामपुर, नहटौर के कोतवाल रहे तथा इससे पहले सहारनपुर में नानौता, कुतबशेर, चिलकाना, नागल और मिर्जापुर थानों के प्रभारी रहे हैं, मुरादाबाद में मूढापाण्डे कोतवाली में इंचार्ज रहे और यहां मुजफ्फरनगर में वह सिविल लाइन तथा चरथावल थानों के प्रभारी रहे।

एक जनवरी 2019 से वह पुलिस आपात सेवा डायल-100 (अब डायल-112) के प्रभारी के रूप में दायित्व संभाल रहे हैं।

जब वह चरथावल थाने में इंचार्ज थे तो थाना क्षेत्र के गांव लुहारी खुर्द में अपने मासूम भांजे के साथ जाती एक युवती की उसके भांजे के साथ ही निर्मम हत्या कर दी गयी थी। इस डबल मर्डर से क्षेत्र में गुस्सा बना था। यह पूरी तरह से ब्लाइंड केस था। तत्कालीन एसएसपी अनन्त देव तिवारी ने उनको पूरी तन्मयता के साथ इस केस पर लगाया और अपना विश्वास बनाये रखा। इंस्पेक्टर जी.सी. शर्मा ने अपना पूरा तजुर्बा इस इन्वेस्टिगेशन में लगाया और सही मुल्जिमों को जेल पहुंचाने का काम किया। क्षेत्र में जनता ने उनको अनेक कार्यक्रमों में इस केस को खोलने पर सम्मानित किया था। वह इस केस को अपनी सर्विस का सबसे चुनौतीपूर्ण केस मानते हुए कहते हैं, कि इस संवेदनशील और हृदयविदारक केस सही खुलासे से उनको आत्मसंतुष्टि मिली। अपनी सर्विस लाइफ में अपराधियों के खिलाफ उन्होंने जमकर लोहा लिया और अनगिनत एनकाउंटर में शामिल रहे, लेकिन वर्ष 1995-96 का मथुरा जनपद के कोसी थाने में तैनाती के दौरान बदमाश भूरा का एनकाउंटर वह बड़ी सफलता मानते हैं। बदमाशों ने अपहरण कर 25 लाख की फिरौती मांगी थी, इसमें अपहृत का सकुशल छुड़ाया गया था। इसके अलावा नानौता सहारनपुर थाना प्रभारी रहते हुए उन्होंने साल 2004 में तत्कालीन एसएसपी सुनील गुप्ता के निर्देशन में आईटीसी सिगरेट फैक्ट्री से दो करोड़ के माल की अज्ञात लूट का खुलासा किया था।

इंस्पेक्टर जी.सी. शर्मा कहते हैं कि एसएसपी अभिषेक यादव की हैप्पी बर्थ डे परम्परा अनूठी मिसाल बन रही है। पुलिस फोर्स एक तनाव भरी ड्यूटी है। ऐसे में इस अभियान ने पुलिस कर्मियों के बीच आपसी सद्भाव और भाईचारा बढ़ाने के साथ ही थानों और कार्यालयों में एक पारिवारिक वातावरण पैदा करने का काम भी किया है। उन्होंने इस परम्परा को बेहद अच्छा बताते हुए कहा कि इससे पुलिस कर्मियों के बीच कार्य के बोझ को लेकर तनाव भी कम हो रहा है।

Top