Top

गुड पुलिसिंग पर आदेश त्यागी को मिला मुख्यमंत्री उत्कृष्ट सेवा पदक

Adesh Tyagi gets Chief Ministers Excellent Service Medal for good policingAdesh Tyagi gets Chief Minister's Excellent Service Medal for good policing

सहारनपुर। कई मोर्चो पर अपनी काबलियत का लोहा मनवा चुके उपनिरीक्षक आदेश त्यागी गागलहेडी में बतौर थानाध्यक्ष अपने कार्यकाल के दौरान कई चुनौतियों को पार करके लोगों के दिलों पर तो राज कर ही रहे हैं, साथ ही अपने आला अफसरों के भी विश्वास पात्र बन चुके हैं। अपनी योग्यता के दम पर पूरे सूबे में केवल पांच अफसरों को प्राप्त हुए मुख्यमंत्री उत्कष्र्ट सेवा अवार्ड को मेरठ जोन में प्राप्त करने वाले एकमात्र पुलिस अफसर बन गये हैं।

बता दें कि मुजफ्फरनगर के छपार के बाद सहारनपुर में सरसावा, तीतरों के बाद गागलहेडी थानाध्यक्ष का जिम्मा सम्भाल रहे आदेश त्यागी पुलिस विभाग में अनुशासन और कर्तव्यनिष्ठा के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने गागलहेडी में लगभग साढ़े छः माह पहले चार्ज सम्भालने के बाद ठाकुर-एससी के जगजाहिर तनावपूर्ण स्थिति के बावजूद होली, अम्बेडकर जयंती, रविदास जयंती सहित लोकसभा चुनाव और कांवड़ यात्रा को सकुशल सम्पन्न कराकर न केवल आला पुलिस अफसरों की, बल्कि आमजन की जमकर वाहवाही बटोरी है। आदेश त्यागी अब तक लगभग दो दर्जन हाफ और फुल एनकाउंटर कर चुके हैं। उन्होंने जहरीबी शराब के सेवन के बाद 50 लोगों की मौत के बाद जिस तरह कानूनव्यवस्था को सम्भाला था, वह काबिलेतारीफ है। इस प्रकरण में उन्होंने दो के खिलाफ एनएसए व 25 के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्यवाही की थी। आदेश त्यागी ने शोएब उर्फ मोनू के ब्लाइंड मर्डर की गुत्थी को सुलझाते हुए तीन हत्यारोपी मुकीम, शहजाद व मतीन को गिरफ्तार करके लोगों का दिल जीत लिया था।




जब किया फुरकान को एनकाउंटर में फुर्र

सूत्रों के अनुसार 12 अक्टूबर 2017 को बुढ़ाना के एक व्यापारी के घर डकैती डालने की तैयारी कर रहे बदमाशों का कुरथल के जंगल में पुलिस से आमना-सामना हो गया था। दोनों ओर से हुई जमकर फायरिंग में 50 हजार का इनामी बदमाश फुरकान पुत्र मीरहसन निवासी तिरवाडा निवासी जनपद शामली गोली लगने से बुरी तरह घायल हो गया था और अस्पताल ले जाते समय रास्ते में उसकी मौत हो गई थी। इस मुठभेड़ में आदेश त्यागी और सिपाही हरेंद्र भी गोली लगने से घायल हो गए थे। उसके खिलाफ दिल्ली, सहारनपुर, मेरठ, मुजफ्फरनगर, शामली और हरियाणा के विभिन्न थानों में तीन दर्जन से अधिक लूट, हत्या, डकैती जैसे संगीन मुकदमे दर्ज थें।

बदमाश शहजाद को ढेर कर छुड़ाया था अपह्रत किसान

26 मई 2019 को गागलहेडी क्षेत्र के निवासी किसान देवेन्द्र त्यागी को हथियारबंद बदमाशों ने रात में उसके खेत में ही बंधक बनाकर परिजनों से उसकी सकुशल वापसी के लिए 10 लाख रुपये की फिरौती मांग की थी। अपहरण की सूचना के बाद परिजनों द्वारा डायल 100 को दी गयी इधर ये सूचना गागलहेडी थानाध्यक्ष आदेश त्यागी को मिली तो उन्होंने जानकारी के आधार पर टीम बनाकर बदमाशों के छुपे होने की आशंका वाले खेत की घेराबंदी करके जब बदमाशो को ललकारा तो बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग कर दी थी, पुलिस की जवाबी फायरिंग में खतौली निवासी शहजाद की गोली लगने से मौके पर ही मौत हो गयी थी और उसके साथी बदमाश अंधेरे का फायदा उठाते हुए फरार होने में कामयाब हो गये थे। इस मुठभेड़ में दो पुलिसकर्मी भी घायल हुए थे, लेकिन अपहृत किसान देवेन्द्र त्यागी को सकुशल बरामद कर लिया गया था।





50 हजार के दो इनामी बदमाशों को पहुंचाया यमलोक

सरसावा मे तैनाती के दौरान आदेश त्यागी ने अपनी टीम के साथ अपहरण, फिरौती और हत्या की घटनाओं को लगातार अंजाम दे रहे 50-50 हजार के इनामी बदमाश ओमपाल पुत्र हजारी निवासी हसनपुर लुहारी थाना थानाभवन, जनपद शामली तथा सुमित उर्फ विक्की पुत्र प्रेमचंद निवासी जलालाबाद थाना थानाभवन जनपद शामली को मुठभेड़ में मार गिराया था। दोनों बदमाशों ने अपने साथियों के साथ सोराना से रेत-बजरी के ठेकेदार और उसके ट्रक चालक का अपहरण कर लिया था और परिजनों से पांच लाख रुपये की फिरौती मांगी थी। अपहरण की सूचना से हरकत में आयी पुलिस सर्विलांस की मदद से रात में गांव इब्राहिमपुरा के खेतों में बदमाशों को घेर लिया और दोनों हुई फायरिंग के दौरान बदमाश पुलिस की गोली लगने से गंभीर रूप से घायल हो गए थे। बाद में चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। मुठभेड़ में एक दरोगा और एक सिपाही भी घायल हो गया था। मुठभेड़ के बाद दोनों अपहृतों को सकुशल बरामद कर लिया गया था। पुलिस सूत्रों के अनुसार मुठभेड़ में मारे गये पचास हजार के इनामी ओमपाल सैनी और सुमित उर्फ विक्की सहारनपुर व शामली पुलिस के लिए चुनौती बने थे। ओमपाल व विक्की दोनों ही दस-दस साल के सजायाफ्ता भी थे। विभिन्न थानों में उस पर 32 मुकदमे दर्ज थे। ओमपाल इतना खूंखार हो गया था कि वक्त पड़ने पर वह हत्या करने से भी गुरेज नहीं करता था।




भतीजे के कातिल को 12 घंटे में किया अरेस्ट

सहारनपुर के गागलहेड़ी थाना क्षेत्र के गांव बेरी जमा से आठ वर्षीय बालक के अपहरण की सूचना पर आदेश त्यागी ने अपनी टीम के साथ ग्रामीणों की मदद से जंगल को घेर लिया था, परन्तु जंगल में कांबिंग के दौरान बच्चे की लाश बरामद हुई थी। फरोती की नीयत से बच्चे के चाचा ने ही अपहरण करके उसका कत्ल कर दिया था। इसके बाद इस घटना को केवल 12 घंटे में ही आदेश त्यागी ने वर्कआउट कर दिया था। बता दें कि सहारनपुर के गागलहेड़ी थाना क्षेत्र के गांव बेरीजमा निवासी शाहिद का आठ वर्षीय पुत्र साहिल घर के बाहर खेलते समय गायब हो गया था। गांव से बालक के अपहरण की सूचना से हड़कंप मच गया था।

इसके अलावा भी आदेश त्यागी के हिस्से में कई बड़ी उपलब्धियां है, जिसके बल पर वे अफसरों व आमजन के चहेते बन गये चुके है। अब 15 अगस्त के मौके पर उन्हें मुख्यमंत्री उत्कृष्ट सेवा अवार्ड प्रदान करके सरकार व पुलिस विभाग के आला अफसरों ने उनकी काबलियत को प्रमाणित भी कर दिया है।

epmty
epmty
Top