Top

पुलिस ने पैसे लौटाने के आश्वासन पर आरोपी को छोड़ा

पुलिस ने पैसे लौटाने के आश्वासन पर आरोपी को छोड़ा

मुजफ्फरनगर। गांधी कालोनी निवासी दीपक चौधरी पुत्र मालेराम व उसके भाई संदीप चौधरी पुत्र मालेराम को आज सुबह ठगी करने के मामले में मवाना की पब्लिक ने उनके घर जाकर उसे घेर लिया। जिसमें आरोपी दीपक चौधरी भागने में सफल रहा। भीड़ ने उसके भाई संदीप को पकड़ डायल 100 के हवाले कर दिया। पुलिस ने आरोपी के भाई को पैसे लौटाने के आश्वासन पर छोड़ दिया है।

लोगों ने बताया कि दीपक चौधरी व भाई संदीप बाईक बोट यूकेलोन (टेक्सी हब) के नाम से कम्पनी चलाते थे। उस कम्पनी के जरिये दीपक व संदीप लोगों की आईडी बनाकर ठगी करते थे और एक आईडी के नाम पर 58500 रूपये लेकर उसको 12 महिने में 112272 रूपये एक साल में डबल यानी किश्त के जरिये 9356 रूपये हर महिना आईडी से वापस करने का वादा किया था। लेकिन वापस में किसी की एक किश्त तो किसी की 2 किश्त ही आ पाई है। पता चला है कि दीपक और संदीप सौ लोगों से ज्यादा को शिकार बना चुका है। लोगों की किश्त न आने पर पब्लिक उसके घर गांधी कालोनी गली न. 24 पर पहुंचे तो वहां पता चला कि दीपक ने इस गली से मकान बेच दिया है। उसके बाद लोगों ने पता चला कि वह अब माता के मंदिर के पास गली न. 2 में रहता है जिसके बाद गुस्साई भीड़ आज सुबह करीब 7 बजे उसके घर पर पहुंचकर उन्हे घेेर लिया, तो दीपक वहां से भाग गया। यह देख संदीप भी भागने लगा मगर मवाना की पब्लिक ने उसे पकड़ लिया और डायल 100 पर सूचना दी जिसपर सूचना मिलते ही डायल 100 मौके पर पहुंची और भीड़ ने संदीप को पुलिस के हवाले कर दिया।




लोगों ने आरोप लगाया है कि दीपक व संदीप ने यूटीएसएम के नाम से दूसरी कम्पनी मिर्च मसाला ईएक्स से ऑनलाइन ठगी व कराउड फाउंडर ईएक्स व कराउडफाउंडरओआर.काॅम से डोनेशन का काम कर रहे है और सालों से ठगी का काम करता आ रहा है करीब सौ लोगों से ज्यादा को वह अपना शिकार बना चुका है। सुनिल कुमार, नीरज भाटिया, मौ0 शाजिद, अंकुर गौतम, आदित्य, पारिक आदि ने बताया कि हमे मिलाकर तकरीबन 130 लोगों से कम्पनी के नाम से ठकी की गई है। संदीप ने आश्वासन दिया है कि वह 10 दिन बाद उनके पैसे वापस कर देगा। जिसपर पुलिस ने आरोपी को छोड़ दिया है।

epmty
epmty
Top