Top

बेस्ट पुलिसिंग के लिए इंस्पेक्टर पीपी सिंह को मिला एवार्ड

बेस्ट पुलिसिंग के लिए इंस्पेक्टर पीपी सिंह को मिला एवार्ड

मुज़फ्फरनगर। पीपी सिंह यूपी पुलिस का वो इंस्पेक्टर जो ठान लेता है वो कर देता है अपनी 19 साल की नोकरी में दो दर्जन बदमाशो को ऊपर का रास्ता दिखाने वाले पीपी सिंह जिस भी थाने में तैनात रहे वहां अपराधियों की शामत आती रही है। इनामी बदमाशो को ढेर करना हो या फिर जेल की सलाखों के पीछे भेजना इस सब में पीपी सिंह नंबर वन बने रहे कई बड़े ब्लाइंड मर्डर को वह वर्कआउट कर चुके है। मुज़फ्फरनगर के गुड वर्क खासकर 12 हजार के इनामी जानू को एनकाउन्टर में ढेर करने पर आज पुलिस लाइन में सहारनपुर के डीआईजी सुनील इमैनुएल ओर एसएसपी अनंन्तदेव ने खतौली इंस्पेक्टर पीपी सिंह ओर उनकी टीम को संम्मानित किया है।

गौरतलब है कि खतौली कोतवाली का चार्ज संभालने के बाद से इंस्पेक्टर पीपी सिंह और उनकी टीम लगातार गुडवर्क कर रही है। मुज़फ्फरनगर में एसएसपी अनंन्तदेव तिवारी के निर्देशन में जब पुलिस लगातार एनकाउन्टर कर रही है तो पीपी सिंह और उनकी टीम इस मामले में अव्वल बनी हुई है । सबसे पहले पीपी सिंह ने 5 हजार के इनामी रवि ओर उसके बाद 12 हजार के इनामी मोनू, 12 हजार के इनामी मोमिन ओंर कल्लू को एनकाउन्टर में पुलिस की bullet से घायल कर जेल की सलाखों के पीछे भेज दिया है।
इस मुठभेड़ कर लिए किया गया संम्मानित
पीपी सिंह और उनकी टीम के सब इंस्पेक्टर सूबे सिंह यादव, सिपाही सोहनवीर,रोहताश,विजय मावी, कुलवंत मलिक ओर दीपक कुमार ने पिछले दिनों सीधे एनकाउन्टर में 12 हजार के इनामी जान मोहम्मद उर्फ जानू को ढेर कर दिया था । आज इस इनामी बदमाश को मारने पर डीआईजी ओर एसएसपी अनंतदेव ने इंस्पेक्टर पीतम सिंह और उनकी टीम को संम्मानित किया है।
पीपी सिंह का 23 वाँ शिकार बना है जानू
1998 बैच के सब इंस्पेक्टर पीपी सिंह का जानू 23 वाँ शिकार बना इससे पहले वह विभिन्न जनपदों मेरठ, मुरादाबाद, नोएडा, हापुड़ में 22 कुख्यात बदमाशो को यमलोक का टिकट का पकड़ा चुके है। मेरठ में पोस्टिंग के दौरान पीपी सिंह ने कुख्यात बदमाश महेश और अरविन्द को तो सदर बाज़ार में एक व्यापारी के यहाँ डकैती की घटना करने के बाद भाग रहे चार बदमाशो को कंकरखेडा इलाके में एनकाउन्टर में मार गिराया था। मुरादाबाद में तैनाती के दौरान पीपी सिंह ने छोटा जमील को एनकाउन्टर में मार गिराया था इसके एनकाउन्टर करने के बाद पीपी सिंह को राष्ट्रपति पदक मिल चुका है.। इसके बाद मुरादाबाद में ही पीपी सिंह ने मनोज को तो फिर कुख्यात बदमाश नदीम को सीधी मुठभेड़ में मार गिराया था नदीम के मारे जाने के बाद आला अफसरों ने पीपी सिंह की पीठ थपथपाई थी और शासन ने पीपी सिंह को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन देकर इंस्पेक्टर बना दिया था पीपी सिंह का यह अभियान यहीं नहीं रुका था उन्होंने नॉएडा में पोस्टिंग के दौरान तीन बदमाशो को मार कर साबित किया था कि वो वाकई एनकाउन्टर स्पेशलिस्ट है ।

epmty
epmty
Top