Top

भारत का नाम विश्व पटल पर रोशन कर रही वैज्ञानिक चंद्रबली दत्ता

भारत का नाम विश्व पटल पर रोशन कर रही वैज्ञानिक चंद्रबली दत्ता

नई दिल्ली भारत का नाम विश्व पटल पर रोशन कर रही ये भारतीय मूल की वैज्ञानिक चंद्रबली दत्ता, जब पूरा विश्व कोरोना महामारी से करा रहा है,ऐसे समय में कोरोना वैक्सीन बनाने में अहम भूमिका निभा रही है यह वैज्ञानिक।

भारतीय मूल की वैज्ञानिक चंद्रबली दत्ता भारत का नाम रोशन कर रही है। पूरी दुनिया इस वक्त चीन से फैले कोरोना वायरस का प्रकोप झेल रही है। अब तक दुनियाभर में कोरोना महामारी के चलते 3 लाख 70 हजार से ज्यादा जानें जा चुकी हैं। और दुनिया भर में 61 लाख 97 हजार पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा सामने आया है। ऐसे में इस जानलेवा महामारी से जल्द से जल्द निपटने के लिए दुनियाभर के वैज्ञानिक कोरोना वैक्सीन की खोज में जुटे हुए हैं। इस वक्त 100 से ज्यादा देश वैक्सीन बनाने की कोशिश में जुटे हुए हैं। लेकिन अब तक किसी को भी सफलता हासिल नहीं हो पाई है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की टीम में शामिल हैं भारतीय मूल की वैज्ञानिक ने हालांकि यह दावा किया है कि कोरोना वैक्सीन जल्द ही तैयार कर लिया जाएगा।

भारतीय मूल की वैज्ञानिक चंद्रबली दत्ता ने कहा कि मानवता की सेवा के लिए ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की कोरोना वैक्सीन खोज टीम में जगह पाकर सम्मानित महसूस कर रही हूं। बता दें कि मूल रूप से कोलकाता की रहने वाली चंद्रबली दत्ता यूनिवर्सिटी के जेनर इंस्टीट्यूट में क्लिनिकल बायोमेनक्योरिंग फैसिलिटी में काम करती हैं। यहीं पर कोरोना वैक्सीन के ह्यूमन परीक्षण के फेज सेकेंड और थर्ड में CHADOX1 नाम के वैक्सीन की खोज का ट्रायल चल रहा है। यह परीक्षण अगर सफल रहता है तो कोरोना वायरस के खिलाफ विश्व की इस लड़ाई में दुनिया को एक शस्त्र मिल जाएगा। प्रशिक्षण सफल होने के बाद यह कोरोना संक्रमण का संभावित वैक्सीन भी बन सकता है। चंद्रबली दत्ता ने कहा कि हम सभी उम्मीद कर रहे हैं कि यह अगले चरण में काम करेगा, पूरे विश्व की नजर इस वैक्सीन पर टिकी हुई हैं। चंद्रबली दत्ता ने कहा कि क्वालिटी एश्योरेंस मैनेजर के रूप में कार्य करने का मतलब यह सुनिश्चित करना है कि परीक्षण के चरण में प्रगति होने से पहले सभी स्तरों के मानकों का अनुपालन पूरा किया जाए।

चंद्रबली दत्ता ने कहा कि वैक्सीन को सफल बनाने के लिए हम घंटों मेहनत कर रहे हैं ताकि संपूर्ण मानवजाति को बचाया जा सके। यह ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की टीम का एक बड़ा प्रयास है और सभी ने इस प्रशिक्षण की सफलता के लिए कार्य किया है। पूरी दुनिया वैक्सीन की खोज की तरफ देख रही है। उन्होंने कहा, ''इस परियोजना का हिस्सा बनना एक तरह से मानवीय उद्देश्य है। हम इस टीके को सफल बनाने के लिए हर दिन अतिरिक्त घंटों तक काम कर रहे हैं ताकि इंसानों की जान बचाई जा सकें। यह व्यापक तौर पर सामूहिक प्रयास है और हर कोई इसकी कामयाबी के लिए लगातार काम कर रहा है।

epmty
epmty
Top