भारतीय मूल की प्रीति पटेल बनी ब्रिटेन की गृह मंत्री

भारतीय मूल की प्रीति पटेल बनी ब्रिटेन की गृह मंत्री

नई दिल्ली। ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने अपने कैबिनेट में भारतीय मूल की प्रीति पटेल को गृह मंत्री बनाया है। पाकिस्तानी मूल के पूर्व गृह मंत्री साजिद जावेद को वित्त मंत्री बनाया गया है।

बता दें कि प्रीति पटेल पूर्व प्रधानमंत्री टेरेजा मे की ब्रेक्जिट रणनीति की मुखर आलोचक रही है। वह ब्रिटेन में भारतीय मूल की पहली गृह मंत्री बनीं हैं। इससे पूर्व वे बैक बोरिस अभियान की प्रमुख सदस्य थीं और संभावना जताई जा रही थी कि उन्हें कैबिनेट में बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है। प्रीति पटेल को ब्रिटेन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उत्साही प्रशंसक के रूप में देखा जाता है। प्रीति पटेल 24 जुलाई 2019 से गृह विभाग के लिए राज्य सचिव और 2010 से एसेक्स में विथम के लिए संसद सदस्य (सांसद) हैं। 47 वर्षीय प्रीति पटेल को नवंबर 2017 में इजरायल के अधिकारियों के साथ गुप्त बैठकों को लेकर राजनयिक प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने पर अंतरराष्ट्रीय विकास मंत्री के रूप में इस्तीफा देना पड़ा था।

लंदन में जन्मीं प्रीति पटेल ने कील और एसेक्स यूनिवर्सिटी में शिक्षा हासिल की। अपना राजनीतिक करियर रैफरेंडम पार्टी के साथ शुरू किया। बाद में कंजरवेटिव पार्टी से जुड़ गईं और 2005 में पहली बार नॉटिंघम नॉर्थ से आम चुनाव में भाग लिया था, जिसमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा। डेविड कैमरुन के कंजरवेटिव पार्टी का अध्यक्ष बनने के बाद उन्हें पार्टी के सर्वोच्च नेताओं की जमात में शामिल किया गया। 2010 के आम चुनाव में वो विथैन सीट से सांसद चुनी गईं, इस सीट को कंजरवेटिव पार्टी का गढ़ माना जाता है। 2015 और 2017 में वो इसी सीट से चुनाव लड़ी और जीतीं। कैमरुन सरकार में उन्हें रोजगार राज्य मंत्री बनाया गया।

प्रीति पटेल के माता-पिता सुशील और अंजना मूल रूप से गुजरात के थे, जो यूगांडा में रहते थे, लेकिन 60 के दशक में वे इंग्लैंड आ गए थे। बीते दिवस बोरिस जॉनसन औपचारिक तौर पर ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बने। जॉनसन ग्रेट ब्रिटेन और उत्तरी आयरलैंड के 55वें प्रधानमंत्री हैं। अपने पहले संबोधन में बोरिस ने जोर देकर कहा कि ब्रेक्जिट संभव होकर रहेगा और यह 31 अक्‍टूबर की निर्धारित समय सीमा के भीतर पूरा होगा। उन्‍होंने कहा कि अब समय आ गया है, जब ब्रेक्जिट दूर की कौड़ी नहीं रह गया है। उन्होंने कहा कि ब्रिटेन के लोगों को डील के बगैर भी ब्रेक्जिट के लिए तैयार रहने की जरूरत है।

Top