Top

28 जनवरी से पल्स पोलियों प्रतिरक्षण अभियान चलाया जायेगा : जिलाधिकारी जी0एस0 प्रियदर्शी

28 जनवरी  से पल्स पोलियों प्रतिरक्षण अभियान चलाया जायेगा : जिलाधिकारी जी0एस0 प्रियदर्शी

मुज़फ्फरनगर : जिलाधिकारी जी0एस0 प्रियदर्शी ने कहा कि पल्स पोलियो अभियान के अन्तर्गत 28 जनवरी 2018 को सभी 1460 बूथों पर पोलियो ड्राॅप पिलायी जायेगी। उन्हेाने निर्देश दिये कि अभिभावकगण 0 से 5 वर्ष तक के बच्चों को पोलियों बूथ पर लाये और पोलियो प्रतिरक्षण हेतु अपने बच्चों को पोलियों ड्राॅप पिलवाना सुनिश्चित करे। उन्होने कहा कि यद्यपि पोलियों का एक भी रोगी भारत में नही है किन्तु पोलियों की सम्भावनाओं को समूल नष्ट करने के लिए हर बार अपने बच्चों को पोलियों बूथ पर लाये। उन्हेाने कहा कि एक भी बच्चा छूटेगा तो सुरक्षा चक्र टूटेगा। उन्होने बताया कि दिनांक 29 जनवरी से 44 मोबाईल टीमों द्वारा घर-घर जाकर बच्चों को पोलियों ड्राॅप पिलवाई जायेगी। उन्होने कहा कि यदि फिर भी कोई बच्चा छूटेगा तो 5 फरवरी को बी-टीम एक्टिविटी करायी जायेगी।
जिलाधिकारी जी0एस0 प्रियदर्शी आज यहाँ टाउन हाॅल ग्राउण्ड से पोलियों जागरूकता रैली को हरी झण्डी दिखाकर रवाना कर रहे थे। उन्हेाने कहा कि जन जन तक यह संदेश पहुंचे कि अपने बच्चो को बूथ दिवस पर लेकर आये और पोलियों ड्राॅप पिलवाये। उन्होने कहा कि कुछ लोग किसी भ्रम वंश अपने बच्चों को पोलियों ड्राॅप नही पिलवाते। उन्होने कहा कि ऐसे परिवारो की काउंसिलिंग करायी जाये और उनका भ्रम दूर किया जाये। उन्हेाने बताया कि ट्राजिंक बूथो की संख्या 163 और 387 सुपरवाइजरों को लगाया गया है। कुल 1041 टीम लगायी गयी है। उन्हेाने कहा कि ईट भट्टो पर कार्य करने वाले मजदूर अपने बच्चों को बूथ पर लेकर नही आ पाते है। उन्होने कहा कि मोबाईल टीम यह सुनिश्चित करें कि ईट भट्टो पर जाये और सभी बच्चों को पोलियों ड्राॅप से आंछादित करें। उन्होने कहा कि मदरसों और मजारों पर भी बच्चों को जाकर पोलियों ड्राॅप पिलाई जाये। जिलाधिकारी ने बताया कि इस अभियान के अन्तर्गत 5 लाख 15 हजार 705 बच्चों को पोलियों ड्राॅप पिलायी जायेगी।
जिलाधिकारी ने बताया कि 1460 बूथों पर पोलियों ड्राॅप पिलाई जायेगी। बूथ दिवस पर जो बच्चे नही आ पायेगे उन्हेें डोर-टू-डोर पोलियों ड्राॅप पिलायी जायेगी। जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद जनपद में 62 अति संवेदनशील ग्रामोें तथा 24 अति संवेदनशील नगरीय क्षेत्रों को चिन्हित किया गया है। उन्होने कहा कि सघन पर्यवेक्षण के लिए प्रत्येक ब्लाॅक स्तर पर अन्य विभागों के जनपद स्तरीय अधिकारियों को नोडल अधिकारी बनाया गया है। उन्होने बताया कि बघरा ब्लाॅक पर जिला विद्यालय निरीक्षक अति संवेदनशील 7 गांवो का, सदर ब्लाॅक में सहायक चकबंदी अधिकारी 14 गांवों का, चरथावल ब्लाॅक में जिला कृषि रक्षा अधिकारी 9 गांवो का, पुरकाजी ब्लाॅक में जिला कार्यक्रम अधिकारी 3 गांवों का, शाहपुर ब्लाॅक में जिला मनोरंजन अधिकारी 7 गांवो का, बुढाना ब्लाॅक में सहायक चकबंदी अधिकारी 7 गांवो का, जानसठ ब्लाॅक में जिला समाज कल्याण अधिकारी 6 गांवो का, मोरना ब्लाॅक में जिला गन्ना अधिकारी 7 गांवो सहित मुजफरनगर नगरीय के 18 क्षेत्रो का जिला सेवायोजन अधिकारी व खतौली नगरीय के 6 क्षेत्रों का जिला पूर्ति अधिकारी सघन रूप से भ्रमण कर पोलियों बूथों पर पिलाई जा रही पोलियों खुराक की गुणवत्ता एवं पर्यवेक्षण का कार्य करेंगे।
जिलाधिकारी कहा कि शत प्रतिशत बच्चों को पल्स पोलियों वेक्सीन दी जाये। उन्हेाने कहा कि डीपीओ सहयोग करे और जिन बस्तियो में पेालियों खुराक को लेकर किसी प्रकार का भ्रम है वहां एमओआईसी जाये और उनके आभिभावकों की काउंसिंलिंग करें। उन्हेाने कहा कि कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए नोडल अधिकारी भी लगाये गये है। उन्होने कहा कि एमओआईसी की ड्यूटी होगी कि नोडल अधिकारियो को फोन कर बताये कि सेक्टर अधिकारी की ड्यूटी किस क्षेत्र में है। उन्होने कहा कि पोलियों ड्रोप हर बार पिलवाया जाना सुनिश्चित किया जाये। उन्होने कहा कि कोई भी बच्चा ऐसा न रहे जो अभियान से आंच्छादित न हो। उन्होने कहा कि अध्यापकगण यह सुनिश्चित करेगे कि छात्रोें द्वारा बच्चों के अभिभावको को एक हस्तलिखित पर्ची भेजेगे जिसमें अभिभावकों पोलियों ड्राॅप पिलवाने के लिए प्रेरित किया जाये। जिलाधिकारी ने ग्राम प्रधानों से सहयोग लेने के भी निर्देश दिये। उन्होने कहा कि इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए जनप्रतिनिधि भी अपना सहयोग करें।
इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, बेसिक शिक्षा अधिकारी सहित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारीगण उपस्थित रहेे।

epmty
epmty
Top