Top

बदमाशों को अल्टीमेटम, मेरठ ज़ोन में अपराध करोगे तो प्रशांत की पुलिस से बच नहीं पाओगे,36 घंटे में सोना लूट का खुलासा

बदमाशों को अल्टीमेटम, मेरठ ज़ोन में अपराध करोगे तो प्रशांत की पुलिस से बच नहीं पाओगे,36 घंटे में सोना लूट का खुलासा

मेरठ / मेरठ जोन में बदमाशों पर पिछले 20 महीनो से आफत आन पड़ी है वजह आईपीएस प्रशांत कुमार की मेरठ एडीजी ज़ोन के रूप में पोस्टिंग है, उन्होंने जब से चार्ज संभाला है तब से बदमाश घटना करते है तो पुलिस साये की तरह उनके पीछे लग जाती है और नतीजा आता है की घटना या तो कुछ दिन में वर्कआउट हो जाती है या फिर चंद घंटो में बदमाश जेल की सलाखों के पीछे होते है, कई बदमाशों ने तो किसी की ह्त्या की और पुलिस के घेरने पर जब पुलिस पर ही वार किया तो जवाब में पुलिस ने उसको उसकी भाषा में जवाब दिया रिजल्ट , बदमाश अपने दुस्साहस के कारण यमलोक को निकल गया, बदमाशों के इसी दुस्साहस के कारण जोन में लगभग फिफ्टी कुख्यात बदमाशों को अपनी जान गंवानी पड़ी, एडीजी जोन प्रशांत कुमार की पुलिस का खौफ ही है कि उनके कार्यकाल में बदमाशों ने जेलों में हॉउसफुल का बोर्ड टांग दिया है, जिस कारण अपराधों में पिछले सालों की तुलना में काफी कमी आ गयी है इसी कड़ी में आज सोना लूट काण्ड का खुलासा भी है

दिनांक 21.02.2019 को जो बेगमपुल पर मणप्पुरम फाइनेंस लिमिटेड में जो सोना लूटा गया था। इस घटना को अंजाम देने वाले अभियुक्त सुशील कुमार ,भगत सिंह को मेरठ पुलिस ने घटना के 36 घण्टे बाद आज दिनांक 23.02.2019 को तीन अभियुक्तो को गिरफ्तार कर आला अफसरों को गुडवर्क से सलामी दी है। इससे पहले 3 अपै्रल 2018 को यमुना एक्सप्रेस वे पर जेवर टोल प्लाजा से करीब डेढ़ किलोमीटर (नोएडा की तरफ) आगरा के चार सर्राफा कारोबारियों की 7 कुन्तल चांदी लेकर संजय पैलेस से चली ब्लू डार्ट कोरियर कंपनी की कैंटर गाड़ी लूट ली गई थी जिसको पुलिस ने चार दिन में वर्क आउट कर दिया था। थाना साहिबाबाद क्षेत्र में श्याम पार्क के प्रेम श्री ज्वेलर्स के शोरूम में 14 नवम्बर 2018 के दिन सनसनीखेज डकैती की घटना को अंजाम दिया गया था, इस वारदात में पांच युवक शामिल थे, जो हथियारों के बल पर पे्रम श्री ज्वैलर्स के शोरूम में करीब ढाई करोड़ रुपये की जूलरी लूटकर फरार हो गये थे। दिनदहाड़े पड़ी इस डकैती ने गाजियाबाद के साथ ही पूरे प्रदेश में हलचल मचा दी थी इसका भी पुलिस ने 26 दिन में में खुलासा कर दिया था।

गौरतलब है कि दिनांक 21.02.2019 को थाना लालकुर्ती क्षेत्रान्तर्गत बेगमपुल के पास स्थित मणप्पुरम लिमिटेड से सोना लूटने की घटना हुई थी। इस सनसनीखेज घटना के त्वरित अनावरण तथा घटना में संलिप्त अपराधियों की गिरफ्तारी हेतु ओ.पी. सिंह, पुलिस महानिदेशक, उत्तर प्रदेश लखनऊ द्वारा प्रशान्त कुमार, अपर पुलिस महानिदेशक, मेरठ जोन को निर्देशित किया गया था। इसी क्रम में रामकुमार पुलिस महानिरीक्षक मेरठ एंव नितिन तिवारी वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मेरठ एंव अभिषेक सिंह वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ उत्तर प्रदेश के निर्देशन में दिनेश सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक नोएडा/ मेरठ एंव कुमार रणविजय सिंह अपर पुलिस अधीक्षक तथा सतपाल अंतिल पुलिस अधीक्षक, नगर मुजफ्फरनगर के नेतृत्व में एस॰टी॰एफ॰ फील्ड इकाई, मेरठ एंव जनपद पुलिस क संयुक्त टीमे गठित कर अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु निर्देशित किया गया था।

दिनेश सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक, एसटीएफ नोएडा/मेरठ एंव कुमार रणविजय सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक को जरिये मुखबिर खास सूचना प्राप्त हुई कि दिनांक 21.02.2019 को जो बेगमपुल पर मणप्पुरम फाइनेंस लिमिटेड में जो सोना लूटा गया था। जिसके संबध में थाना लालकुर्ती पर मु॰अ॰स॰ 44/2019 धारा 394 भा॰द॰वि॰ पंजीकृत है, को अंजाम देने वाले अभियुक्त सुशील कुमार पुत्र सत्यवीर सिंह नि॰ ग्राम दादरी थाना दौराला जनपद मेरठ एंव भगत सिंह पुत्र धूमसिंह निवासी ग्राम छुर थाना सरधना हाल पता म॰न॰ बी-23 वण्डर सिटी थाना कंकरहेडा जनपद मेरठ लूटा गया माल(सोना) को बेचने के लिए मिलांज माल, मोदीपुरम मेरठ के सामने आने वाले है। मुखबिर की सुचना पर गठित टीम द्वारा मिलांज माल मोदीपुरम से थोडा आगे खतौली की तरफ चलकर आज दिनांक 23.02.2019 को 03 अभियुक्तो को गिरफ्तार किया गया।

गिरफ्तार अभियुक्तगण ने पूछताछ पर बताया कि सुशील व भगत सिंह उपरोक्त ने अपने कुछ साथियों के साथ मिलकर बेगमपुल के पास स्थित मणप्पुरम फाइनंेस लिमिटेड से सोना लूटने की योजना बनायी तथा योजना के मुताबिक दिनांक 21.02.2019 समय करीब 06 बजें साय सुशील उपरोक्त अपने एक साथी के साथ बेगमपुल के पास स्थित गोल्ड लोन लेने के बहाने मण्प्पुरम फाइनेंस लिमिटेड पहुॅचा तथा ब्रान्च के अन्दर जाकर अपने साथ तंमचो के बल पर भयभीत करते हुए ब्रान्च के कर्मचारियांे को बन्धक बना लिया और सफ से सोना निकलवाकर बैग में भरकर भाग निकले और वहां से निकलने के बाद बागपत बाईपास पहुॅचे जहां पहले से मौजूद सेन्ट्रो कार (रंग सफेद)गाडी के साथ कुछ साथी मिले तथा लूटे हुए माले के साथ बाईपास की तरफ भागे। योजना के मुताबिक बाईपास पर पहुंचकर लूटे हुए माल को आपस में बाट लिया। गिरफ्तारशुदा सुशील उपरोक्त शातिर किस्म का अपराधी है जो वर्ष 2017 में बहुचर्चित डा॰ श्रीकान्त गौड अपहरण के मामलें में भी मुख्य अभियुक्त था, जिस पर 50 हजार रूपये का इनाम था जिसे एसटीएफ मेरठ टीम द्वारा गिरफ्तार किया गया था। इस सोना लूट की घटना में शामिल दो अन्य अभियुक्त भगत सिंह निवासी वण्डरसिटी, मेरठ तथा दीपक निवासी दादरी जनपद मेरठ को भी गिरफ्तार किया गया है तथा 1 मोबाईल फोन,1 सैन्ट्रो कार सफेद कलर,1 मोटर साईकिल पेंशन,सोने के विभिन्न आभूषण वजनी 4.042 किलोग्राम और आठ लाख पचास हजार रूपये नगद बरामद किये हैै। शेष अभियुक्तो की त्वरित गिरफ्तारी एंव शेष माल की बरामदगी के लिए टीमे लगाई गयी है। शेष अभियुक्तो की गिरफ्तारी के लिए ईनाम घोषणा करने की कार्यवाही प्रचलित है। गिरफ्तार करने वाली टीम को अपर पुलिस महानिदेशक, मेरठ जोन, मेरठ द्वारा 50,000/-रूपये का ईनाम दिया जायेगा तथा अर्हता के आधार पर प्रशंसा चिन्ह के लिए संस्तुति की गयी है।

किया था सात कुन्तल चांदी लूटकांड का चार दिन में खुलासा

गौतमबुद्धनगर। गौरतलब है कि 3 अपै्रल 2018 को यमुना एक्सप्रेस वे पर जेवर टोल प्लाजा से करीब डेढ़ किलोमीटर (नोएडा की तरफ) आगरा के चार सर्राफा कारोबारियों की 7 कुन्तल चांदी लेकर संजय पैलेस से चली ब्लू डार्ट कोरियर कंपनी की कैंटर गाड़ी लूट ली गई थी। दो कार में सवार बदमाशों ने लूट की इस वारदात को अंजाम देकर सनसनी फैला दी थी। ये बदमाश पुलिस की वर्दी और नीली बत्ती की गाड़ी में आए थे। सर्राफा कारोबारियों की 7 कुन्तल चांदी लूट की खबर ने प्रदेश में हलचल मचा दी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक मामला पहुंचने के बाद इस लूटकांड का अनावरण करने के लिए जोन के एडीजी प्रशांत कुमार ने कमान संभाली और चार दिन बाद ही ऐतिहासिक स्तर पर सफलता अर्जित कर उन्होंने इस लूटकांड को खोल दिया। इसका खुलासा करने के लिए खुद एडीजी मेरठ जोन प्रशांत कुमार एसएसपी नोएडा ऑफिस में पहुंचे। इस वारदात को अंजाम देने वाले चार बदमाशों को पकड़ा गया, इसमें हाशिम मुल्ला (शकरपुर दिल्ली), अब्दुल्ला (ओखला नई दिल्ली), अश्वनी (धोबी घाट पंत अस्पताल नई दिल्ली) व शोएब उर्फ बब्बू (डीडीए फ्लैट माता सुंदरी रोड नई दिल्ली) की गिरफ्तारी के बाद उनकी निशानदेही पर 5 कुन्तल से ज्यादा चांदी को बरामद किया।

गाजियाबाद पुलिस ने 26 दिन में खोली ढाई करोड़ की डकैती

बता दें कि थाना साहिबाबाद क्षेत्र में श्याम पार्क के प्रेम श्री ज्वेलर्स के शोरूम में 14 नवम्बर 2018 के दिन सनसनीखेज डैकती की घटना को अंजाम दिया गया था, इस वारदात में पांच युवक शामिल थे, जो हथियारों के बल पर पे्रम श्री ज्वैलर्स के शोरूम में करीब ढाई करोड़ रुपये की जूलरी लूटकर फरार हो गये थे। दिनदहाड़े पड़ी इस डकैती ने गाजियाबाद के साथ ही पूरे प्रदेश में हलचल मचा दी थी।

एडीजी मेरठ जोन प्रशांत कुमार ने इस वारदात को चुनौती के रूप में लिया और पूरे केस की खुद माॅनीटरिंग करते हुए एसएसपी गाजियाबाद उपेन्द्र अग्रवाल को त्वरित खुलासा कराने के निर्देश दिये। एसएसपी ने इस प्रकरण के खुलासे के लिए थाना पुलिस के साथ ही क्राइम ब्रांच गाजियाबाद की टीम को भी सक्रिय कर दिया। क्राइम ब्रांच गाजियाबाद द्वारा इस घटना का सफल अनावरण करते हुए पांच बदमाशों मे से 4 अभियुक्तों को गिरफ्तार करने के साथ ही उनके कब्जे से घटना में प्रयुक्त 02 बाईक, सोने चांदी के हीरे के जेवरात व नग, अवैध असलाह आदि बरामद किये हैं। इस घटना के खुलासे में पुलिस ने डकैती का 90 प्रतिषत माल बरामद किया है।

गाजियाबाद के पटेल नगर निवासी राहुल वर्मा श्याम पार्क में प्रेम श्री ज्वैलर्स के नाम से शोरुम चलाते हैं। 14 नवम्बर के दिन में करीब एक बजे दो बाइक सवार बदमाश आए और सीधे शोरूम में घुस गए अैर हथियारों के बल पर दुकान में लूटपाट शुरू कर दी। राहुल के द्वारा इस डकैती में करीब ढाई करोड़ रुपये की जूलरी लूटे जाने की बात पुलिस को बताई थी। वारदात के 26वें दिन एडीजी प्रशांत कुमार के नेतृत्व में पुलिस टीम ने घटना का सफल अनावरण कर गुड पुलिसिंग को पेश किया है। इस सनसनीखेज वारदात का खुलासा करने में इंस्पेक्टर संजय वर्मा, इंस्पेक्टर सचिन मलिक, राजीव बालियान और अंजनी आदि पुलिसकर्मियों की पूरी टीम का योगदान रहा। एडीजी मेरठ जोन प्रशांत कुमार ने पुलिस की इस उपलब्धि पर प्रशंसा करते हुए कहा कि इस गुड वर्क से जनता के बीच पुलिस के प्रति विश्वास और पुख्ता हुआ। घटना का सही खुलासा ही गुड पुलिसिंग है।

epmty
epmty
Top