Top

रीता बहुगुणा जोशी ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की वर्ष 2018-19 की प्रस्तावित कार्ययोजना की समीक्षा की

रीता बहुगुणा जोशी ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की वर्ष 2018-19   की प्रस्तावित कार्ययोजना की समीक्षा की

लखनऊ : प्रदेश की परिवार कल्याण, महिला कल्याण, मातृ शिशु कल्याण, पर्यटन मंत्री प्रो0 रीता बहुगुणा जोशी ने आज सचिवालय स्थित अपने सभाकक्ष में भारत सरकार की स्वीकृति के लिए प्रेषित की जाने वाली राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की वर्ष 2018-19 की प्रस्तावित कार्य योजना की समीक्षा की।

बैठक में प्रो0 जोशी ने मिशन निदेशक पंकज कुमार से कहा कि महिलाओं और बच्चों की स्वास्थ्य योजनाओं पर विशेष ध्यान केन्द्रित किया जाए। उन्होंने कहा कि दूरस्थ क्षेत्रों में संस्थागत प्रसव सुविधा के लिए पी0पी0सी0 (प्रसव हेतु बनाया गया स्वास्थ्य केन्द्र) निर्माण हेतु आवश्यकता के आधार पर 20 जिलों की प्राथमिकता तय करके सूची बनाई जाए, जिससे स्वीकृति हेतु चयन में प्राथमिकता तय हो सके। उन्होंने ए.एन.एम. भर्ती के लिए विभागीय कार्यवाही की समीक्षा भी की तथा नियमानुसार कार्यवाही के निर्देश भी दिए।
मिशन के निदेशक पंकज कुमार ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत पहले से चल रहे कार्यक्रमों के अतिरिक्त नये प्रस्तावों के तहत निर्धारित कार्यक्रम और उनके लिए प्रस्तावित बजट की जानकारी परिवार कल्याण मंत्री को दी।
ज्ञात हो कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत वर्तमान में मैटरनल हेल्थ चाइल्ड हेल्थ, राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम, फैमिली प्लानिंग, प्री कान्सेप्शन, प्री नेटल डायग्नाॅस्टिक टेस्ट, कम्प्यूटरीकृत प्रोसेस, आई.एम.ई.पी. सर्विसेज, मेनस्टीमिंग आॅफ आयुष, इमरजेंसी मेडिकल ट्रांसपोर्ट सिस्टम (ई.एम.टी.एम.), प्रोक्योरमेंट, हेल्थ मैनेजमेंट इन्फारमेशन सिस्टम/मदर एण्ड चाइल्ड ट्रैकिंग सिस्टम, निर्माण कार्य, नियमित टीकाकरण, नेशनल अरबन हेल्थ मिशन, नाॅन कम्यूनिकेबल डिजीज, ब्लड सर्विसेज तथा नेशनल डिजीज कन्ट्रोल प्रोग्राम कार्यक्रम संचालित हैं।
वर्ष 2018-19 में प्रस्तुत नये प्रस्तावों में मैटरल हेल्थ प्रोग्राम, चाइल्ड हेल्थ प्रोग्राम, फैमिली प्लानिंग प्रोग्राम, क्वालिटी इन्श्योरंेस प्रोग्राम निर्माण, कम्यूनिटी प्रासेस, नाॅन कम्प्यूनिकेबल डिजीज, बायो मेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट के तहत कार्यक्रमों को सम्मिलित करते हुए अपेक्षित बजट का प्रस्ताव किया गया हैं।
नये प्रस्तावों में अधिक प्रसवभार (200 प्रतिमाह) वाले स्वास्थ्य केन्द्रों पर 1375 सुरक्षा गार्ड, उपलब्ध कराने हेतु 2970 लाख रुपये, लेवर रुम तथा आपरेशन थियेटर की सामथ्र्य वृद्धि के लिए 805.31 लाख रुपये, चार मेडिकल कालेजों में महिला रोगी सबंधी विभाग/ओटी में सघन चिकित्सा यूनिट, एचडीयू के लिए 835.89 लाख रुपये, हेल्थ प्रमोशन डे के लिए 3823.37 लाख रुपये, आशा-ए.एन.एम.-आंगनबाड़ी मीटिंग के लिए 4167.67 लाख रुपये, प्रदेश में 1080 हेल्थ और वेलनेस केन्द्रों के लिए 17206.02 लाख रुपये, प्रदेश में हेपेटाइटिस सी मैनेजमेंट एवं क्योर प्रोजेक्ट के लिए 2885 लाख रुपये तथा प्रदेश के 82 जिला स्तरीय अस्पतालों एवं 821 सिटी हेल्थ सेन्टर्स पर मेडिकल वेस्ट कलेक्शन शेड्स के लिए 2709 लाख रुपये धनराशि इन महत्वपूर्ण कार्यक्रमों मंे शामिल किया गया है।
बैठक में मिशन निदेशक पंकज कुमार, सहायक मिशन निदेशक श्रुति, सहायक मिशन निदेशक निखिल चन्द्र, महाप्रबंधक नियोजक डा0 मधु शर्मा, फाइनेंस कंट्रोल सहित समस्त वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

epmty
epmty
Top