Top

गन्दगी करने वालोे पर जुर्माना लगाया जाये व कूडेदान की व्यवस्था कराई जाये : जिलाधिकारी

गन्दगी करने वालोे पर जुर्माना लगाया जाये व कूडेदान की व्यवस्था कराई जाये : जिलाधिकारी

मुजफ्फरनगर 15 फरवरी 2018 : जिलाधिकारी राजीव शर्मा ने कहा कि नगर पालिका क्षेत्रों एवं नगर पंचायतो में स्वच्छता सम्बन्धी कार्य तेजी से कराये जाये। उन्होने कहा कि नगर निकायों को और अधिक सुन्दर और स्वच्छ बनाया जाये। उन्होने कहा कि ठोस एवं द्रव्य अपशिष्ट प्रबन्धन की उचित व्यवस्था की जाये। उन्होने कहा कि मेन बाजारो मे कूडा एकत्रित करने के लिए 75 मीटर की दूरी पर कूडेदान रखे जाने की व्यवस्था की जाये। उन्होने सफाई व्यवस्था की माॅनिर्टिंंग कराये जाने के निर्देश सभी अधिशासी अधिकारियों को दिये। जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि नगर पंचायतों का निरीक्षण समय समय पर उप जिलाधिकारियों द्वारा एवं नगर पालिका परिषद का निरीक्षण अपर जिलाधिकारी द्वारा करना सुनिश्चित किया जाये। उन्होने अमृत योजना में पेयजल एवं सीवर कैनक्शन की प्रगति मार्ग प्रकाश व्यवस्था के कार्य में तेजी लाये जाने के निर्देश भी दिये। निकायों की सडकों को गड्ढा मुक्त किये जाने और निकायों की कर करेत्तर की स्थिति में सुधार लाये जाने के भी निर्देश दिये।

जिलाधिकारी राजीव शर्मा आज यहां कलैक्टेªट सभागार में नागर निकाय के अधिशासी अधिकारियों एवं उप जिलाधिकारियों के साथ आयोजित बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होने अधिशासी अभियंता जल निगम को निर्देश दिये कि बुनियादी सुविधाओं का लाभ आम जनता को प्रत्येक दशा में मिलना चाहिए। उन्होने कहा कि जिन क्षे़त्रों में सीवर लाईन डालने का कार्य किया जा रहा है वहां व्यापारियों के हितों का भी ध्यान रखा जाये और दिन में तीन बार पानी के टैंकरों से छिडकाव कार्य कराया जाये ताकि उपभोक्तओं व व्यापारियों को परेशानी का सामना न करना पडे। उन्होने कहा कि परियोजना की जानकारी आम जनता को भी मिलनी चाहिए इसके लिए निर्माणाधीन परियोजनाओ के सम्बन्ध में उसकी लागत सहित कार्यदायी संस्था का नाम व निर्माण वर्ष/कार्य समाप्ति की अवधि अंकित कराई जाये। उन्होने कहा कि योजना कब से चल रही है और क्या प्लान है, वार्ड वार टाइम लाईन बनाई जाये। उन्होने निर्देश दिये कि परियोजना समय सीमा के अन्तर्गत पूर्ण की जाये और कार्य मानक के अनुसार पूर्ण किये जाये। उन्हेानेे यह भी निर्देश दिये कि जो भी कार्य हो उनमें पारदर्शिता रखी जाये और गुणवत्ता का ध्यान रखा जाये। जिलाधिकारी ने कहा कि इसका ले-आउट प्रस्तुत किया जाये कि कहां कहां खुदाई का कार्य किया जा रहा है। उन्होने रात्रि में कार्य किये जाने के निर्देश दिये। 28 कि0मी0 लाईन पहले से डली हुई है। इसमें 10 कि0मी0 नयी लाईन डाली जानी है। 4700 कैनक्शन दिये जाने है। 31 करोड की योजना है जिसके सापेक्ष 15.72 करोड की धनराशि अवमुक्त की जा चुकी है। 42 प्रतिशत कार्य पूर्ण किया जा चुका है। सीवर लाईन में 4 हजार मीटर लम्बी लाईन बिछा दी गयी है। सीवर सफाई के अन्तर्गत 8500 मीटर लम्बी लाईन की सफाई कर दी गयी है। सीवर गृह संयोजन में 1600 गृह संयोजन कर दिये गये है।

जिलाधिकारी ने कमला नेहरू वाटिका के सौन्र्दयकरण की प्रगति की भी समीक्षा की और निर्देश दिये कि कार्याे में तेजी लायी जाये। उन्होने यह भी निर्देश दिये कि क्या क्या कार्य कराये जा रहे है उनका भी विवरण प्रस्तुत किया जाये। जिलाधिकारी ने मार्ग प्रकाश व्यवस्था के अन्तर्गत नगर पालिका मुजफ्फरनगर एवं खतौली सहित सभी नगर पंचायतों की लाईटो को एलईडी में परिवर्तित किये जाने के सम्बन्ध में भी समीक्षा की। उन्हेाने निर्देश दिये कि एलईडी अच्छी कम्पनी की और आईएसआई मार्क ही लगायी जाये। उन्हेाने यह भी निर्देश दिये कि एलईडी लाईटो में रात्रि में जलने के लिए आटोमैटिक व्यवस्था होनी चाहिए। जिलाधिकारी ने कहा कि नगर पालिका परिषद मुजफ्फरनगर एवं बुढाना की तर्ज पर ही डम्पिंग ग्राउण्ड बनवाये जाये और यह सुनिश्चित किया जाये कि प्रतिदिन एकत्रित कूडा डम्पिंग ग्राउण्ड में भेजा जाये। जिलाधिकारी ने सडकों के किनारे कूडा डम्पिंग करने पर कडी नाराजगी व्यक्त करते हुए अधिशासी अभियंता पीडब्ल्यूडी को निर्देश दिये कि रात्रि के समय निगरानी करायी जाये कि कूडा सडके के किनारे न डाला जाये और यदि ए-टू-जेड या अन्य नगर पंचायतों के सफाई कर्मी कूडे डालते है तो उनके खिलाफ एफआईआर करायी जाये। जिलाधिकारी ने ए-टू-जेड के प्रतिनिधि को भी शहर में उचित साफ सफाई न पाये जाने पर कडी फटकार लगायी। उन्होने कहा कि शहर में साफ सफाई की चाक चोबंद व्यवस्था न होने पर कडी कार्यवाही अमल मे लाई जायेगी।
जिलाधिकारी ने कहा कि जिन निकायों में अभी डम्पिंग ग्राउण्ड के लिए भूमि की उपलब्धता नही की गयी है वे भूमि चिन्हित कर क्रय करने की कार्यवाही करे और डम्पिंग ग्राउण्ड बनाये। उन्हेाने कहा कि जिन निकायों में डोर-टू-डोर कूडा कलेक्शन की व्यवस्था नही हो पायी है वे तुरन्त व्यवस्था को चालू करे। मीरापुर एवं भोकरहेडी में डम्पिंग ग्राउण्ड के लिए जमीन क्रय कर ली गयी है। उन्हेाने कहा कि अपनी न्यूनतम आवश्यकता के अनुरूप भूमि क्रय कर ले। बुढाना मेें कूडे से वर्मी कम्पोस्ट पिट बनाये गये है। उन्होने बताया कि नगर पालिका परिषद मुजफ्फरनगर में कूडा उठाने के लिए ठेका दिया गया है। उन्होने बताया कि दूसरी नगर पालिका एवं नगर पंचायत अपने नोडल बनाकर ठेका दिये जाने की कार्यवाही तय कर ले। जिलाधिकारी ने कहा कि सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के लिए भूमि की व्यवस्था सुनिश्चित कर ली जाये।
जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि सफाई कर्मियो द्वारा प्रातः 7 बजे से सफाई कार्य शुरू कर दिया जाता है। उन्होने कहा कि उपस्थिति दर्ज कराने में सुपर विजन रखा जाये। जिलाधिकारी ने कहा कि बुढाना एवं मुजफ्फरनगर में डोर-टू-डोर कूडा कलेक्शन कराया जा रहा है। उन्हेाने कहा कि अन्य निकायों में भी इस व्यवस्था को तत्काल लागू किया जाये हर 75 मीटर की दूरी पर कूडेदान रखवाये जाये तथा मेन बाजारों में दो बार सफाई कराना सुनिश्चित कराया जाये। उन्होने कहा कि जहां दो बार सफाई नही हो पा रही है वहां क्षेत्र का चयन कर व्यवस्था को लागू किया जाये। इसके साथ ही यह भी निर्देश दिये कि सफाई कर्मियों को निर्धारित डेªस उपलब्ध करायी जाये और कूडा नियमित रूप से डम्पिंग ग्राउण्ड भेजा जाये।
जिलाधिकारी ने कहा कि बडे कूडा घरों को सुन्दर बनाने के लिए बोर्ड से प्रस्ताव कराये जाये। उन्हेाने कहा कि जहां डेरियों का गोबर आता है उसका ठेका उठाये या गोबर गैस प्लांट लगाकर कम्पोस्ट बनायी जाये। जिलाधिकारी ने अनुपयोगी बिल्डिंग मैटेरियल को भराव आदि कार्य के लिए बिक्री करने के भी निर्देश दिये। उन्होने कहा कि अनौपचारिक रूप से कचरा बीनने वाले लोगो का चिन्हिकरण किया जाये। उन्हेाने कहा कि स्वच्छता कार्याे में लगी गाडियो को जीपीएस युक्त कराया जाये और उनकी माॅनिर्टिंग करायी जाये। जिलाधिकारी ने कहा कि जुडवा कूडेदान की व्यवस्था करायी जाये। उन्होने यह भी निर्देश दिये कि गन्दगी करने वालोे पर जुर्माना लगाया जाये। जिलाधिकारी ने कहा कि नगर निकायों को स्वच्छ एव सुन्दर बनाने के लिए खुले स्थानों को पार्क के रूप मे विकसित किया जाये। उन्होने कहा कि उद्यान में ही पतोें से कम्पोस्ट बनायी जाये। उन्हेाने बताया कि सफाई कर्मियो को दस्ताने, मास्क, जूतें आदि उपलब्ध कराये जाये। जिलाधिकारी ने बताया कि समस्त निकाय ओडीएफ कर ली गयी है।

जिलाधिकारी ने कहा कि अर्बन क्षेत्र की नहरो पर अतिक्रमण नही होना चाहिए। उन्होने कहा कि सिचाई विभाग इसके सतत् माॅनिर्टिंग करें। उन्हेाने बिजली विभाग को निर्देश दिये कि अर्बन क्षेत्रो मे अधिक भीड भाड वाले स्थानो पर भूमिगत लाईन डाली जाये। जिलाधिकारी ने कहा कि डूडा विभाग अपने यहां पंजीकृत ग्रुपों की सूची समस्त अधिशासी अधिकारियो को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करे। उन्हेाने पीडब्ल्यूडी विभाग को निर्देश दिये कि जो रोड शहर में आ गये है उन्हें हैण्डओवर किया जाये। उन्होने अधिशासी अभियंता पीडब्ल्यूडी को निर्देश दिये कि सडकों पर बने डिवाईडर जहां टूटे है उन्हें ठीक कराया जाये। उन्होने अधीशासी अधिकारियों को निर्देश दिये कि कचरा प्रबन्धन के लिए संवेदनशील रहे और सतत माॅनिर्टिग करते रहे। उन्होने शहर के प्रवेश प्वाइंटो पर वृक्षारोपण कराये जाने के निर्देश दिये। उन्होने कहा कि यह भी सुनिश्चित किया जाये कि प्रवेश द्वार पर कूडा न पडने पाये। उन्होने निर्देश दिये कि ठोस कूडे से लैण्डफिल का कार्य किया जाये। उन्होने सडको के डिवाईडरो के पास से धूल मिट्टी हटाये जाने के भी निर्देश दिये।

जिलाधिकारी ने सभी अधिशासी अधिकारियों को निर्देश दिये कि यदि आवश्यकता है तो तीन दिन के अन्दर सामुदायिक शौचालय का प्रस्ताव प्रस्तुत करे। उन्हेाने बताया कि यदपि पूरा जनपद ओडीएफ हो चुका है। जिलाधिकारी ने सोलिट वैस्ट मैनेजमेंट के क्रियान्वयन की स्थिति एवं भूमि की उपलब्धता की समीक्षा की। उन्होने निकायों में सम्पत्ति रजिस्टर रखे जाने के भी निर्देश दिये। उन्हेाने नगर निकायों में अवैध कब्जो से मुक्त करायी गयी भूमि की सुरक्षा की भी समीक्षा की और उस भूमि के उपयोग के बारे में प्रस्ताव तैयार किये जाने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिये कि मौसम की अनुकूलता को देखते हुए अधिशासी अभियंता पीडब्ल्यूडी सडकों को गड्ढा मुक्त कराना सुनिश्चित करे। उन्होने अपस्थापना निधि एवं 14वे वित्त की धनराशि से हुए कार्यो की भी समीक्षा की।
इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी प्रशासन हरीश चन्द्र, अधिशासी अधिकारी तथा सम्बन्धित विभागो के अधिकारीगण भी मौजूद रहे।

epmty
epmty
Top