Top

भूमि विवादों का निस्तारण श्रावस्ती माॅडल पर आधारित अभियान के अन्तर्गत कराया जाये :जिलाधिकारी

भूमि विवादों का निस्तारण श्रावस्ती माॅडल पर आधारित  अभियान के अन्तर्गत कराया जाये :जिलाधिकारी

मुजफ्फरनगर : जिलाधिकारी राजीव शर्मा ने कहा कि भूमि विवाद सम्बन्धी शिकायतो का लम्बे समय से निस्तारण न हेाने से जहां एक और अपराधों मे वृद्धि हेाती है वही दूसरी और कानून व्यवस्था की स्थिति भी उत्पन्न हेाती है। जिलाधिकारी ने बताया कि आई0जी0आर0एस0 एवं अन्य माध्यमों से प्राप्त शिकायतों को तहसीलवार संकलित कर इन शिकायतों का निस्तारण राजस्व एवं पुलिस विभाग के सक्षम अधिकारियों की संयुक्त टीम द्वारा स्थलीय जांचोपरान्त आपसी सहमती के आधार पर कराया जाये।
जिलाधिकारी राजीव शर्मा आज कलैक्ट्रेट सभागार में श्रावस्ती माॅडल पर आधारित 'भूमि विवादों का आपसी सुलह समझौतों के आधार पर निस्तारण' अभियान के सम्बन्ध में बैठक कर रहे थे। उन्होने बताया कि मुख्य सचिव राजस्व अनुभाग-9 उ0प्र0 शासन लखनऊ के पत्र दिनांक 27 दिसम्बर 2017 के संदर्भ में भूमि विवाद से सम्बन्धित प्रकरणो के समाधान हेतु श्रावस्ती माॅडल पर आधारित विशेष अभियान चलायें जाने के निर्देश दिये गये थे। उन्होने निर्देश दिये कि निर्धारित कार्यक्रम का तहसील स्तर से सम्बन्धित ग्राम में जहां टीम जा रही है प्रचार प्रसार कराया जाये। उन्हेाने कहा कि पक्षगणों को सूचित कर दिया जाये कि साक्ष्यों/अभिलेखों सहित मौके पर उपस्थित रहे जिससे संयुक्त टीम द्वारा अभिलेखों का परीक्षण कर यथा सम्भव मौके पर न्यायोचित कार्यवाही करते हुए शिकायत का निस्तारण किया जा सके। उन्होने कहा कि ग्राम के सभ्रान्त व्यक्तियों से भी निस्तारण के दिन मौके पर उपस्थित रहने हेतु अनुरोध कर लिया जाये।
जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि संयुक्त टीम द्वारा मा. न्यायालयों में विचाराधीन मामलों को छोडकर शेष प्रकरणों का समाधान ग्राम के सभ्रान्त लोगो की उपस्थित में आपसी बात-चीत, सुलह समझौता के माध्यम से विधिक प्रक्रियाओं का पालन करते हुए शिकायतों का निस्तारण कराया जाये। उन्हेाने कहा कि यदि समय के अभाव अथवा किसी अन्य परिस्थितियों में ग्राम के चिन्हित प्रकरणों का समाधान उसी दिन नही हो पाता है तो संयुक्त टीम द्वारा अगले दिन ग्राम में जाकर मामलें का निस्ताण कराया जाये। उन्होने कहा कि जो प्रकरण सूचीबद्ध न हो और ग्र्राम भ्रमण के समय संज्ञान में आये, उनका मौके पर निस्तारण संयुक्त टीम द्वारा कराया जाये। साथ ही संयुक्त टीम द्वारा ग्राम मंे अन्य विवादों के सम्बन्ध में भी जन सामान्य से जानकारी कर उनका भी मौके पर निस्तारण कराया जाये। उन्हेाने कहा कि संयुक्त टीम के ग्राम भ्रमण के उपरान्त न्यायालयों में विचाराधीन वादों केेे अतिरिक्त भूमि सम्बन्धी अन्य कोई विवाद शेष न रहे। उन्होेने कहा कि संयुक्त टीम द्वारा ग्राम भ्रमण के उपरान्त ग्राम के विवाद रहित हेाने का प्रमाण पत्र प्राप्त कर उप जिलाधिकारी के हस्ताक्षर से जिलाधिकारी कार्यालय को उपलब्ध कराया जाये।
जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि टीम प्रातः 9 बजे तक प्रत्येक दशा में सम्बन्धित थानों से रवाना हो जाये व थानों की जी0डी0 में दर्ज कर सम्बन्धी ग्राम से आने की सूचना भी जी0डी0 दर्ज कराते हुए उसकी नकल प्राप्त कर निस्तारण आख्या के साथ प्रस्तुत की जायेगी। उन्होने निर्देश दिये कि उप जिलाधिकारी/क्षेत्राधिकारीगण द्वारा सम्बन्धित ग्रामों का भ्रमण कर गठित टीमों के कार्यो का पर्यवेक्षण व संवेदनशील प्रकरणों में उनका मार्गदर्शन किया जाये। उन्होने कहा कि अपर जिलाधिकारी/अपर पुलिस अधीक्षक द्वारा सप्ताह में एक अभियान दिवस पर कम से कम दो ग्रामो का संयुक्त निरीक्षण किया जायेगा। उन्होने यह भी निर्देश दिये कि संयुक्त टीम द्वारा अभियान दिवस पर कार्यवाही पूर्ण करने के उपरान्त कृत कार्यवाही का पूरा विवरण आई0जी0आर0एस0 पोर्टल पर दर्ज किया जायेगा।
जिलाधिकारी ने बताया कि अभियान दिवस पर सीमा सम्बन्धी अथवा मार्गाधिकार और अन्य सूखाचार सम्बन्धी प्रकरणो को यथास्थिति राजस्व संहिता-2006 की धारा-24 अथवा धारा 25 के अन्तर्गत किया गया निस्तारण मानते हुए निस्तारित किये गये समस्त प्रकरणो की पत्रावलियां जिनमें सुलह समझौते के आधार पर कराये गये निस्तारण आदि से सम्बन्धित अभिलेख/सुलहनामा आदि उपलब्ध हो, को तहसील स्तर पर संरक्षित किया जायेगा। उन्होने यह भी निर्देश दिये कि विशेष अभियान की सफलता का मापदण्ड यही होगा कि कितने राजस्व ग्रामों को भूमि विवाद रहित बनाया गया व तहसील, थाना व जिला स्तर पर शिकायतकर्ताओं की संख्या में कितनी कमी आयी। जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि निर्धारित प्रारूप पर समाधान आख्या उपलब्ध करायी जाये और विशेष अभियान की कार्यवाही की फोटोग्राफी/वीडियोंगाफी भी करायी जाये।
जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि सम्बन्धित उप जिलाधिकारी/तहसीलदार प्रकरण की गम्भीरता के दृष्टिकोण से उपरोक्त टीम में लेखपालों की संख्या अपने स्तर से कम या अधिक कर सकेंगे। जिसकी सूचना जिलाधिकारी कार्यालय को उपलब्ध करानी होगी। जिलाधिकारी ने अपेक्षा की कि उक्त गठित टीमों के अधिकारी इस विशेष अभियान को सफल बनाने में अपना पूर्ण सहयोग प्रदान करेंगे।
इस अवसर पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनन्त देव तिवारी, अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 सियाराम मौर्य, एसपी देहात, एसपी सिटी, सभी एसडीएम व क्षेत्राधिकारी उपस्थित रहे।

epmty
epmty
Top