सत्ता पक्ष के विधायकों ने उड़ाई विपक्ष की नींद

सत्ता पक्ष के विधायकों ने उड़ाई विपक्ष की नींद

मुजफ्फरनगर : साल 2013 में तीखी जुबांदराजी के कारण साम्प्रदायिक दंगों तक जा पहुंचे मुजफ्फरनगर में दंगों के पांच साल बाद भी जहरीली जुबां से हलचल मची है। भाजपा विधायकों के कारनामों और बयानबाजी ने समूचे विपक्षी की नींद उड़ा दी है। ऐसे में एकजुट हुए विपक्षी दलों के नेताओं ने सीएम योगी को इन विधायकों की शिकायत भेजकर अंकुश लगाने की मांग की है।
बुधवार को कांग्रेस, रालोद और सपा नेताओं ने डीएम जीएस प्रियदर्शी से मुलाकात कर सीएम योगी के नाम एक ज्ञापन सौंपा। विपक्षी नेताओं ने आरोप लगाते हुए कहा कि वर्तमान में सूबे में सहकारिता समितियों के चुनाव की प्रक्रिया चल रही है। ये चुनाव ग्रामीण अंचलों के आधार होते हैं, ये चुनाव हमेशा ही दलगत राजनीति से ऊपर उठकर होते हैं। इस बार जनपद में सहकारिता चुनाव में जहां राजनीतिक मर्यादा को तार तार किया जा रहा है, वहीं अफसरों पर अनावश्यक दबाव बनाया जा रहा है। विपक्षी नेताओं ने आरोप लगाया कि जिस प्रकार बुढ़ाना क्षेत्र के विधायक द्वारा एआर को-आॅपरेटिव के कार्यालय पर उनकी कुर्सी पर बैठकर स्वयं क्षेत्रों का निर्धारण करने में व्यस्त रहे, उससे सहकारिता के मायने ही खत्म हो गये हैं। विपक्षी नेताओं ने खतौली क्षेत्र के विधायक पर जनपद में धार्मिक उन्माद फैलाने के आरोप लगाते हुए कहा कि वो आये दिन विवादित बयान देते हैं, जिससे स्थिति जनावपूर्ण हो जाती है। इसके साथ ही विपक्ष ने मुख्यमंत्री से सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानों के वितरण में पारदर्शिता बरतने की व्यवस्था कराने, इन दुकानों के आवंटन में हो रही धांधली को खुद सत्ता पक्ष के लोगों ने उठाया है। विपक्षी दलों के नेताओं ने सत्ता पक्ष के विधायकों पर ये भी आरोप लगाया कि वो जमीनों पर कब्जे, बुढ़ाना और शाहपुर में अवैध कब्जे, जमीनों की डील एवं दूसरे अवैध कार्य आर्थिक लाभ प्राप्त कर सरकारी अधिकारियों पर दबाव बनाने का कार्य कर रहे हैं, जो अत्यंत गंभीर विषय है। विपक्ष ने इन विधायकों पर अंकुश लगाने की मांग की है।
प्रतिनिधिमण्डल में सपा जिलाध्यक्ष गौरव स्वरूप, रालोद जिलाध्यक्ष अजीत राठी, कांग्रेस शहराध्यक्ष सतीश गर्ग, तारिक कुरैशी के अलावा पूर्व सांसद हरेन्द्र मलिक, प्रमोद त्यागी, पूर्व मंत्री राजकुमार यादव, कृष्णपाल राठी, अनूप प्रमुख, सुधीर भारतीय, विकास कादीयान, चन्द्रवीर एडवोकेट, अशोक बालियान, अश्वनी राठी आदि शामिल रहे।

epmty
epmty
Top