Top

किसानों और जन समस्याओं को लेकर मध्य प्रदेश में जीतू पटवारी का आंदोलन

किसानों और जन समस्याओं को लेकर मध्य प्रदेश में जीतू पटवारी का   आंदोलन

किसानों और जन समस्याओं को लेकर मध्य प्रदेश में कांग्रेसियों ने आंदोलन और धरना-प्रदर्शन का जो रास्ता अपनाया है उससे उन्हें कितना हासिल होगा, यह अभी नहीं कहा जा सकता क्योंकि प्रदेश की भाजपा सरकार ने भी भावांतर जैसी योजना को सुव्यवस्थित तरीके से लागू करके किसानों के आक्रोश को शांत कर दिया है। किसानों को मुख्य रूप से अपनी उपज का उचित मूल्य न मिलने की शिकायत थी और सरकार ने उसका समाधान कर दिया है। कांग्रेस ने खनन जैसी समस्याओं को उठाया है और कानून-व्यवस्था पर चौहान सरकार को घेरने का प्रयास किया है।
इंदौर में पालदा क्षेत्र की समस्याओं को लेकर गत दिनों कांग्रेस ने आंदोलन किया था। इस आंदोलन का नेतृत्व राऊ के विधायक जीतू पटवारी कर रहे थे। पुलिस ने आंदोलनकारियों के नेताओं को गिरफ्तार किया लेकिन बाद में उन्हें छोड़ दिया गया। पालदा इलाके में पानी और अन्य समस्याओं को लेकर जीतू पटवारी और कांग्रेस के कई नेताओं ने पालदा चोराहे पर धरना दिया था। यहां के लोग नर्मदा से पानी लाने की मांग कर रहे हैं जो अभी पूरी नहीं हो पायी है। जीतू पटवारी ने कांग्रेसियों को साथ लेकर मुख्य सड़क पर चक्का जाम कर दिया था। इसके बाद ही विधायक पटवारी व अन्य कांग्रेस जनों को गिरफ्तार किया गया था। पटवारी की गिरफ्तारी के विरोध में शहर कांग्रेस और युवक कांग्रेस ने जिला जेल पहुंचकर 16 जनवरी को धरना शुरू कर दिया। इसके बाद ही पटवारी समेत अन्य नेताओं को रिहा कर दिया गया। हालांकि इस मामले को समाप्त नहीं किया गया है लेकिन कांग्रेस के लोग कहते हैं कि उनके नेता को जनता के बीच हीरो बना दिया गया। जीतू पटवारी किसानों के बीच अपनी पकड़ बनाने में सफल रहे हैं। पिछले साल भी पीथमपुर में आटो टेस्टिंग टैंक के लिए जब किसानों की भूमि अधिग्रहीत की गयी थी तब जीतू पटवारी ने आंदोलन किया था और धमकी दी थी कि यदि किसानों को उनकी
अधिग्रहीत भूमि का मुआवजा नहीं मिला तो वे किसानों को लेकर विधान भवन में घुस जाएंगे। दरअसल यह मामला कांग्रेस ने इसलिए उठाया था क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने किसानों के हक में फैसला दिया था लेकिन सरकार मुआवजा देने में आनाकानी कर रही थी। जीतू पटवारी की छवि हालांकि कांग्रेस में बहुत अच्छी नहीं मानी जाती है क्योंकि भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजय वर्गीय पर एक गंभीर आरोप लगाया गया था तब जीतू पटवारी ने विजय वर्गीय का साथ दिया था और कहा था कि उन पर लगाये गये आरोप निराधार हैं। हुआ यह था कि पश्चिम बंगाल में शिशु गृह की आड़ में बच्चों की तस्करी का एक मामला सामने आया। इसमें जो आरोपी पकड़ा गया उसने अपने संबंध भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव विजय वर्गीय से बताये थे। कांग्रेस के विधायक जीतू पटवारी ने इन आरोपों को निराधार बताया। उन्होंने विजय वर्गीय के समर्थन में एक ट्वीट किया। इस ट्वीट को देखकर कांग्रेस के वरिष्ठ पदाधिकारी नाराज हो गये। विजय वर्गीय ने ट्वीटर पर ही विधायक जीतू पटवारी को धन्यवाद भी दिया क्योंकि जीतू पटवारी ने कहा था कि राजनीतिक प्रतिद्वन्द्विता किसी के चरित्र हनन की इजाजत नहीं देती। इस पर कांग्रेस के पूर्व सांसद सज्जन सिंह वर्मा ने कहा था कि भाई जीतू आरोपों की जांच करना पुलिस का और उस पर निर्णय करना कोर्ट का काम है। इस प्रकार के प्रकरण इन दिनों इसलिए याद किये जाते हैं क्योंकि राज्य में विधानसभा चुनाव होने हैं और हवा का रुख देखकर लोग फैसला करेंगे।

epmty
epmty
Top