विजय रूपाणी ने दिया संगठन क्षमता का परिचय

विजय रूपाणी ने दिया संगठन क्षमता का परिचय

गुजरात में दूसरी बार मुख्यमंत्री बनाये गये विजय रूपाणी ने यह साबित कर दिया कि उनमे पार्टी को एक साथ लेकर चलने की क्षमता है। राज्य में इस बार भाजपा की सरकार कड़े संघर्ष के बाद बनी है और सिर्फ 99 विधायक मिल पाये। इसलिए विजय रूपाणी पर भी अंगुली उठाई जा रही थी और कहा जा रहा था कि उन्हें दुबारा मुख्यमंत्री की कुर्सी नहीं मिलेगी लेकिन भाजपा के केन्द्रीय नेतृत्व ने विजय रूपाणी और नितिन पटेल को भी फिर से गुजरात की सत्ता सौंप दी।

मुख्यमंत्री बनने के बाद विजय रूपाणी ने अपने मंत्रियों को विभाग बांटे तो सबसे पहले उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल को ही लगा कि उन्हें महत्वपूर्ण विभाग नहीं दिया गया है। नितिन पटेल की यह शिकायत बाहर तक आ गयी थी और कहा जाने लगा कि विजय रूपाणी की सरकार में शुरू से ही खटपट पैदा हो गयी है। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने इस बात को गंभीरता से लिया और मामले को सुलझाने के लिए नितिन पटेल को वित्त मंत्रालय जैसा महत्वपूर्ण विभाग दे दिया। इसके बाद कोली समुदाय के प्रभावशाली नेता पुरुषोत्तम सोलंकी ने भी इस प्रकार की शिकायत की। सोलंकी के समर्थकों ने उनके भाई और पूर्व विधायक हीरा सोलंकी के नेतृत्व में 3 जनवरी को गांधी नगर में पुरुषोत्तम के आवास पर एकत्र होकर मांग की कि उनके नेता को अच्छे विभाग दिये जाने चाहिए। इस प्रकार लगा कि सरकार में विभागों को लेकर तनाव फिर खड़ा हो जाएगा लेकिन मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने इस मामले को भी आपसी बातचीत से सुलझा लिया है। श्री पुरुषोत्तम सोलंकी को विजय रूपाणी सरकार में मत्स्य पालन मंत्री बनाया गया है। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने पुरुषोत्तम सोलंकी को आश्वासन दिया है कि लगभग डेढ़ महीने बाद कैबिनेट का विस्तार होगा और उस विस्तार में सोलंकी को बेहतर विभाग दिया जाएगा। मुख्यमंत्री के इस आश्वासन पर सोलंकी मान गये हैं।

सोलंकी ने बताया कि मेरे आवास पर कोली समुदाय के एकत्र होने के बाद मुख्यमंत्री ने मुझे बुलाया और यह आश्वासन दिया है। सोलंकी ने यह भी कहा कि कोली समुदाय के लोग हमेशा पार्टी के साथ रहे हैं और हम पार्टी के साथ मिलकर काम करेंगे। इससे पूर्व श्री पुरुषोत्तम सोलंकी ने नाराजगी मंे कहा था कि मैं वही करूंगा जो मेरा समाज मुझसे कहेगा। इस प्रकार मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने अपने मंत्रिमंडल का असंतोष बड़ी असानी से दूर कर दिया है।

सेहत

Top