Top

सभी सरकारी ऑफिसों में और बैठकों में मिट्टी से बने बर्तनों का इस्तेमाल किया जाये : धर्मवीर प्रजापति

मुजफ्फरनगर । उत्तर प्रदेश माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष धर्मवीर प्रजापति ने आज कलैक्ट्रेट सभागार में अधिकारियेां व माटी कला से जुडे कामगारों के साथ बैठक करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार माटी कला को आगे बढाने को लेकर गम्भीर है। इसके लिए अनेक प्रयास किये जा रहे है। उन्होने कहा कि प्रदेश में माटी कला बोर्ड का गठन किया गया है। उन्होने बताया कि प्रदेश में 12 हजार गांवों का आंकड़ा अभी पहुंचा है जिनमें माटी कला का कार्य किया जाता है। उन्होने कहा कि जनपद में माटी कला से जुडे परिवारों के नाम, तहसील व जनपद में माटी कला से जुडे परिवारों की सख्या की सूची उपलब्ध कराई जाये। उन्होने कहा कि लेखपालो को लगाकर एक सप्ताह में चिन्हीकरण का कार्य पूर्ण कर लिया जाये।




उत्तर प्रदेश माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष धर्मवीर प्रजापति ने कहा कि अगर कही पटटे पर अवैध कब्जा है तो तत्काल उसे कब्जामुक्त कराया जाये। उन्होने कहा कि अगर मछली पालन करने वाला माटी कला से जुडे लोगो को तालाब से मिटटी नही निकालने दे रहा है तो एसे पटटे तत्काल निरस्त किये जाये। उन्होने कहा कि मिटटी के काम करने वालों को पटटे आवंटित किये जाये। उन्होने कहा कि ग्राम प्रधानों को भी इस सम्बन्ध में सूचित कर दिया जाये। उन्होने कहा कि माटी कला से जुडे ऐसे लोग जिनके पास आवास नही है उन्हे प्रधानमंत्री आवास योजना के अन्तर्गत आवास उपलब्ध कराये जाये। उन्होेने कहा कि माटी कला से जुडे लोगो की समिति बनाई जाये। माटी कला का कार्य करने वालों लोगो को आवंटित पटटों को चकबन्दी से बाहर रखा जायेगा। माटी कला को बढावा देना है।




उत्तर प्रदेश माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष धर्मवीर प्रजापति ने कहा कि सभी सरकारी विभागों में आयोजित बैठकों आदि में प्लास्टिक का प्रयोग न किया जाये। पीने के पानी व चाय के लिए कुल्हड का प्रयोग किया जाये। उन्होने कहा कि मिटटी में 26 पोषक तत्व मोजूद होते है अगर हम मिटटी से बने बर्तनों का प्रयोग करेगे तो हमारा स्वास्थ्य भी ठीक रहेगा। उन्होने कहा कि सम्पूर्ण समाधान दिवस पर मिटटी के बर्तनों को एक टेबल पर रखवाने की व्यवस्था कराई जाये ताकि दूर दराज से आये व्यक्ति मिटटी के बर्तना खरीद सके। उन्हे इसकी उपयोगिता के बारे में भी बताया जाये। उन्होने कहा कि जनपद में एक दुकान ऐसी हो जिसमें मिटटी के बर्तन को रखा जाये ताकि कोई भी वहां से इन्हे खरीद सके। उन्होने कहा कि भविष्य में रोडवेज बस स्टैण्ड पर भी एक दुकान में मिटटी के बर्तन प्रर्दशित किये जाने का प्रयास है। उनहोेने बताया कि प्रदेश में 2300 माटी कला का कार्य करने वाले लोगो को प्रशिक्षण भी दिया जायेगा। उन्हे बर्तन अािद बनाने में प्रयोग होने वाले औजार भी दिये जायेगे। बैठक में माटीकला से जुडे कामगारों द्वारा बनाये गये मिटटी के बर्तनों आदि को प्रदर्शित भी किया गया।



इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी आलोक कुमार, सीओ सिटी हरीश भदौरिया, एसडीएम सदर, खतौली, सहित तहसीलदार, जीएम डीआईसी, खादी एवं ग्रामोध्योग अधिकारी सहित अन्य अधिकारी, समाजसेवी व माटीकला से जुडे कामगार उपस्थित थे।

epmty
epmty
Top