Top

मुज़फ्फरनगर में फिर लौट रहे है पुराने दिन

मुज़फ्फरनगर में फिर लौट रहे है पुराने दिन

शाहपुर में साम्प्रदायिक सौहार्द की मिशाल पेश की आरएसएस के कार्यकर्ताओं ने , मजीद अंसारी को हज यात्रा पर भेजने के की मदद
मुज़फ्फरनगर में 2013 में दंगा हुआ तो इस जनपद की पहचान हिन्दुतान ही नही दुनिया भर में हिन्दू ओर मुसलमान के बीच बहुत बड़ी खाई की कल्पना की जाती रही है और इसके बाद छुट पुट घटनाएं मीडिया में आती रही और मुज़फ्फरनगर की पहचान एक साम्प्रदायिक संघर्ष के जनपद के रूप में की जाने लगी ऐसा नही है कि दोनों समुदायों के बीच दूरियां नही बढ़ी थी बिल्कुल बढ़ी ओर यहां तक कि अविश्वास भी बढ़ा है लेकिन अब लगता है कि मुहब्बतनगर के नाम से मशहूर इस जनपद में फिर से दोनों समुदायों के बीच आपसी सौहार्द कायम होने लगा है।
जनपद का शाहपुर कस्बा जिसके आसपास के गांवों में 2013 दंगा हुआ उसके कस्बे के आरएसएस के पुराने कार्यकर्ताओ ने एक मुस्लिम फैमली जिसकी हज यात्रा का फार्म रिजेक्ट हो गया था उसकी हज यात्रा पर जाने के लिए सार्थक प्रयास कर मजीद अंसारी को मक्का रवाना फूल मालाओं के साथ कर साम्प्रदायिक सौहार्द की बेहतर मिशाल पेश की है।
यह है पूरा मामला
गौरतलब है कि मुज़फ्फरनगर के शाहपुर कस्बे के मजीद अंसारी ने पिछले साल हज पर जाने के लिए आवेदन किया लेकिन उनका आवेदन केंसिल हो गया और उनकी हज पर जाने की तमन्ना अधूरी रह गयी। उम्र के आखरी पड़ाव पर हज यात्रा पर जाने की उम्मीद के साथ इस बार मजीद ने फिर से हज कमेटी में अप्लाई किया लेकिन एक बार फिर मजीद का नबर नही आया मगर शायद इस बार हज पर जाना मजीद की किस्मत में लिखा था । फार्म केंसिल होने से मायूस मजीद नाउम्मीद हो गया ऐसे में उम्मीद की किरण बने मुसलमानो के विरोधी कहे जाने वाले आरएसएस के लोग । हुआ यूं कि मजीद के परिवार के साजिद की मित्रता कस्बे के वरिष्ठ पत्रकार सचिन सिंघल से है साजिद ने अपने पिता की हज पर नही जाने बात उनसे की तो सचिन सिंघल ने अपने ताऊ ओर आरएसएस केवरिष्ठ कार्यकर्ता श्यामपाल भाईजी से मजीद की हज यात्रा पर जाने में मदद करने का निवेदन किया तो श्यामपाल भाई जी ने मुज़फ्फरनगर के भाजपा सांसद और भारत सरकार में मंत्री संजीव बालियान से अल्पसंख्यक कल्याण और हज मिनिस्टर मुख्तार अब्बास नकवी को मजीद को हज यात्रा वीवीआइपी कोटे से भेजने का पत्र भिजवा दिया इस पत्र में सचिन सिंघल ने अपना कॉन्टेक्ट नंबर इस मकसद से डाल दिया कि अगर ऊपर से कोई जानकारी की जाएगी तो संतोषजनक जवाब दिया जा सके और मजीद की हज यात्रा पर जाने की तमन्ना पूरी हो सके ओर हुआ भी वही सचिन सिंघल, श्यामपाल भाईजी की कोशिश रंग लाई ओर मजीद को हज।पर जाने की परमिशन।मिल गयी। जब हज।पर जाने की बात मजीद ओर उसके परिवार को मिली तो उनकी खुशी का कोई ठिकाना नही रहा । अब जब मजीद हज यात्रा पर जाने के लिए घर से निकले तो श्यामपाल भाईजी ओर मणिकांत मित्तल सचिनः सिंघल।के साथ उसके घर पहुंचे ओर फूल मालाओं से उन्हें रवाना किया यहां तक कि हमउम्र होने के कारण श्यामपाल भाईजी ने गले लगाकर तो मणिकांत मित्तल ओर सचिन सिंघल ने पांव छूकर उनको विदा किया । मजीद अंसारी का कहना है कि हिंदुस्तान में आज भी भाईचारा हिन्दू मुस्लिम के बीच कायम है बस कुछ लोग हमारे बीच मे दूरिया बढ़ाना चाहते है । उन्होंने आरएसएस के लोगो का धन्यवाद ज्ञापित किया और अपने हज सफर पर निकल पड़े।
आरएसएस और भाजपा को मुस्लिम विरोधी माना जाता है फिर आपने मजीद की मदद क्यों की इस सवाल पर सचिन सिंघल का कहना था * आरएसएस उसका विरोध करता है जो हिंदुस्तान में रहते हुए पाकिस्तान की हिमायत की बात करता है हम देश भक्त मुसलमान के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलते है माननीय प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री यूपी और भजपा का नारा है सबका साथ सबका विकास उसमे सभी धर्मों के लोग शामिल है मगर उसको छोड़कर जो भारत से मुहब्बत नही करते है

epmty
epmty
Top