सामाजिक समरसता के लिए संत-महात्माओं के संदेश आज भी प्रासंगिक : मुख्यमंत्री

सामाजिक समरसता के लिए संत-महात्माओं के संदेश आज भी प्रासंगिक : मुख्यमंत्री


जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि आज देश में हिंसा एवं अशांति का माहौल है, ऎसे में जरूरत हमारे सन्त-महात्माओं के संदेशों को आमजन तक पहुंचाकर हिंसा और भय के इस माहौल को अमन और शांति के माहौल में बदलने की है। उन्होंने कहा कि संत-महात्माओं ने अपने दर्शन के माध्यम से समाज में समरसता पैदा की एवं अनेकता में एकता का संदेश प्रसारित किया।






अशोक गहलोत जवाहर कला केन्द्र में गांधीजी की 150वीं जयंती के अवसर पर राजस्थान कबीर यात्रा के पांचवें संस्करण के शुभारम्भ के अवसर पर सम्बोधित कर रहे थे।







उन्होंने कहा कि संत कबीर ने अपने दोहों के माध्यम से समाज के पथ प्रदर्शन का पुनीत कार्य किया है। ऎसी यात्राओं के माध्यम से महात्मा कबीर, संत रैदास, दादू दयाल जैसे संतों के सन्देश एवं उनकी शिक्षाएं आमजन तक पहुंचाई जा सकती हैं।





अशोक गहलोत ने कहा कि जहां लोकतंत्र है वहां हिंसा का कोई स्थान नहीं होना चाहिए। हमारे महान नेताओं ने इस देश में लोकतंत्र को मजबूत बनाने के लिए अपनी जान की कुर्बानी तक दे दी। उन्होंने कहा कि आज इसरो चंद्रयान और मंगल ग्रह तक अपने मिशन भेज रहा है। देश को विकास के इस पायदान तक पहुंचने में 70 साल लगे हैं। इसमें पंडित नेहरू, सरदार वल्लभ भाई पटेल, इंदिरा गांधी जैसे नेताओं का योगदान भी अहम रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे सन्त-महात्माओं एवं गांधी जी की शिक्षाओं को ग्राम पंचायत स्तर तक पहुंचने के प्रयासों में राज्य सरकार पूरा सहयोग करेगी। उन्होंने कहा कि गांधीजी का व्यक्तित्व विराट है। पूरे विश्व में 2 अक्टूबर को अन्तराष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में मनाया जाता है। आज हमारे सामने चुनौती गांधीजी के रास्ते पर चलकर शांति एवं अमन कायम करने की है।

अशोक गहलोत ने युवा पीढ़ी का आह््वान किया कि वे गांधी दर्शन को पढ़ें और उसे आत्मसात करें। गांधी जी की जीवनी को एक बार जरूर पढ़ना चाहिए। गांधी जी को जो पढ़ेगा उसके जीवन में बदलाव जरूर आयेगा। आज जरूरत गांधी जी का नाम लेने वालों की नहीं बल्कि उनके विचारों को जीवन में उतारने की है।


कला एवं संस्कृति मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला ने कहा कि कबीर यात्रा का पांचवा संस्करण कबीर वाणी के माध्यम से प्रदेशभर में धार्मिक सहिष्णुता एवं सामजिक समरसता का संदेश पहुंचाएगा।


कार्यक्रम की शुरुआत में पुलिस महानिदेशक डॉ. भूपेन्द्र सिंह ने अतिथियों का स्वागत किया और राजस्थान कबीर यात्रा के बारे में जानकारी दी।


उन्होंने कहा कि यात्रा के माध्यम से संत कबीर के सन्देश को जन-जन तक पहुंचाया जाएगा। लोकायन संस्था के अध्यक्ष श्री महावीर स्वामी ने मुख्यमंत्री को तंबूरे की प्रतिकृति स्मृति चिन्ह के रूप में भेंट की। इस अवसर पर शबनम वीरमानी ने तंबूरे पर कबीर वाणी को भजनों के रूप में प्रस्तुत किया।

यात्रा का संचालन राजस्थान पुलिस, पर्यटन विभाग एवं लोकायन संस्था द्वारा संयुक्त रूप से किया जा रहा है।

Top