Top

कश्मीर में मनोबल बढ़ा रहे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

कश्मीर में मनोबल बढ़ा रहे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

श्रीनगर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लद्दाख में सेना के उस कैम्प तक जाकर जो चीन सीमा से बिल्कुल सटा है सैनिकों का मनोबल बढ़ाया तो रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी कश्मीर में सेना के जवानों को भरोसा दिला रहे हैं कि पूरा देश उनके साथ खड़ा है। सेना की कार्रवाई में कोई बाधा नहीं आने दी जाएगी। उसके लिए संसाधन बढ़ाए जाएंगे। इसका ताजा प्रमाण रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गत 9 जुलाई को दिया है। राजनाथ सिंह ने जिला कठुआ में सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा बनाए गए 6 नए पुलों का उद्घाटन किया। बीआरओ ने चीन सीमा के निकट भी पुलों व सड़कों का निर्माण रिकार्ड समय में किया लेकिन कश्मीर में बनाए गए पुलों का विशेष महत्व है। पाकिस्तान के मामले में सभी जानते हैं कि वह सीज फायर का लगातार उल्लंघन कर रहा है। इसीलिए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने पुलों का उद्घाटन करते हुए कहा कि मुझे यह कहते हुए गर्व महसूस हो रहा है कि बीआरओ ने इन पुलों का निर्माण दुश्मनों द्वारा निरंतर सीमा पर गोली बारी के बावजूद समय पर किया है। इन पुलों से सटे ग्रामीण इलाकों के विकास में तो तेजी आएगी ही। सरहद की रक्षा कर रहे हमारे जवानों को भी इसका लाभ मिलेगा। इन 6 पुलों मंे अखनूर सेक्टर के पलानी ब्रिज, धोड़ा ब्रिज, फाड़ी वाला ब्रिज हैं जबकि दो पुल जम्मू सेक्टर में बने हैं। जवानों का मनोबल बढ़ा है और इसका संकेत भी बराबर मिल रहा है। गत 11 जुलाई को भारतीय सुरक्षा बलों ने एलओसी पर घुसपैठ को नाकाम करते हुए दो आतंकवादी भी मार गिराए हैं।


जम्मू-कश्मीर में सीमा पार से आतंकी घुसपैठ की कोशिशों से बाज नहीं आ रहे हैं। उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में भारतीय सुरक्षाबलों ने नियंत्रण रेखा पर सीमा पार से आतंकियों की घुसपैठ की कोशिश नाकाम कर दी। इस दौरान सुरक्षा बलों ने 2 आतंकियों को मार गिराया।

पुलिस ने बताया कि उत्तरी कश्मीरी के कुपवाड़ा जिले के हंदवाड़ा के टीएमजी सेक्टर में 11 जुलाई सुबह एलओसी पर घुसपैठ को नाकाम करते हुए सुरक्षाबलों ने 2 आतंकवादियों को मार गिराया। बारामुला के नौगाम सेक्टर में नियंत्रण रेखा के किनारे सैनिकों को संदिग्ध हरकत का पता चला। इसके बाद सेना ने तेजी से एक्शन लिया और दो आतंकवादियों को मार गिराया मारे गए आतंकवादियों के पास से दो एके-47 और जंग में इस्तेमाल किए जाने वाले अन्य हथियार बरामद किए गए हैं।

जम्मू कश्मीर पुलिस के विशिष्ट खुफिया सूचनाओं के आधार पर जम्मू कश्मीर के राजौरी जिले में भीम्बर गली सेक्टर के केरी क्षेत्र में नियंत्रण रेखा के करीब एक संयुक्त अभियान शुरू किया गया था. जिसके बाद आतंकियों को नियंत्रण रेखा पार करते हुए देखा गया। इसके बाद भारतीय सेना के सतर्क सैनिकों ने घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया, जिसके परिणामस्वरूप एक आतंकी को मार गिराया गया. इसके साथ ही दो मैगजीन के साथ एक एके-47 भी बरामद की गई। जम्मू कश्मीर में आतंकी लगातार भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि सीमा पर तैनात भारतीय सुरक्षाबल आतंकियों की तमाम कोशिश को नाकाम करने के लिए मुस्तैदी से तैनात हैं। इससे पूर्व 1 जुलाई को एक आतंकी को सुरक्षाबलों ने मार गिराया। जम्मू कश्मीर के राजौरी में सुरक्षाबलों को आतंकी घुसपैठ की खुफिया जानकारी मिली थी जिसके बाद सुरक्षाबलों ने एलओसी पर आतंकियों को घुसपैठ करते हुए देखा। हालांकि एलओसी पर तैनात सुरक्षाबलों ने आतंकियों की इस घुसपैठ को नाकाम कर दिया साथ ही एक आतंकी को ढेर भी कर दिया। इसके बाद भारतीय सेना के सतर्क सैनिकों ने घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया। एक आतंकी को मार गिराया गया इसके साथ ही दो मैगजीन के साथ एक एके-47 भी बरामद की गई। लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर भारत और चीन के बीच जारी तनाव का फायदा पाकिस्तान उठाने की कोशिश कर रहा है। भारतीय खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तानी सेना ने नॉर्थ लद्दाख में अपनी तैनाती बढ़ा दी है। इसके साथ ही चीनी आर्मी आतंकी संगठन अल बद्र से बात कर रही है।

खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान ने अपने सैनिकों के दो डिविजन को गिलगित-बालटिस्तान इलाके में तैनात किया है। पाकिस्तान की ओर से करीब 20 हजार अतिरिक्त सैनिकों की नॉर्थ लद्दाख में तैनाती की गई है। सूत्रों का कहना है कि पाकिस्तान दो फ्रंट वार का अवसर देख रहा है। वहीं, चीनी आर्मी ने जम्मू-कश्मीर में हिंसा फैलाने के लिए आतंकी संगठन अल बद्र से बात की है। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई चीन के साथ मिलकर जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियों को बढ़ाने और यहां तक बैट ऑपरेशन को अंजाम देने का प्लान बना रही है। सूत्रों का कहना है कि कश्मीर में मौजूद 100 आतंकियों की मदद ली जा सकती है। गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में भारतीय सुरक्षाबलों का आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन जारी है और हाल में 120 से अधिक आतंकी मार गिराए गए है। इसमें से अधिकतर लोकल थे। मारे गए आतंकियों में कुछ ही विदेशी आतंकी थे। सुरक्षाबलों के ऑपरेशन से पाकिस्तान खौफ में है और नए हथकंडे अपना रहा है। सूत्रों का कहना है कि दो फ्रंट वार की स्थिति में पाकिस्तान ने कश्मीर में मौजूद आतंकियों से सुरक्षाबलों पर हमले कराने का प्लान बनाया है। इस इनपुट के बाद सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट हो गई हैं और जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। जम्मू-कश्मीर के बांदीपोरा में आतंकियों ने बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या कर दी।

आतंकियों ने दुकान के बाहर बीजेपी नेता के भाई उमर सुल्तान और पिता बशीर अहमद शेख पर भी गोलीबारी की। गोलीबारी में दोनों घायल हो गए थे जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई। इस मामले में बीजेपी नेता की सुरक्षा में तैनात सभी पुलिसकर्मियों को लापरवाही के आरोप में निलंबित किया गया है। कश्मीर के आईजी ने बताया कि वसीम बारी की सुरक्षा में पर्याप्त सुरक्षाकर्मी मौजूद थे। ऐसे में ये पूरी तरह से लापरवाही का मामला भी बनता है। प्रदेश में बीजेपी नेता की हत्या का ये पहला मामला नहीं है। नवंबर 2017 से लेकर अब तक बीजेपी के कुल चार नेताओं की हत्या की गई हैं। पिछले महीने ही जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले में आतंकियों ने कश्मीरी पंडित सरपंच अजय पंडिता की गोली मारकर हत्या कर दी थी। लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े संगठन द रेजिस्टेंस फ्रंट ने इस हत्या की जिम्मेदारी ली थी। अब वहां के हालात बदल गये हैं। आतंकवादियों व घुसपैठियों पर सुरक्षा बल भारी पड़ रहे हैं। (हिफी)

epmty
epmty
Top