Top

केंद्रीय एवं प्रदेश कौशल विकास मंत्री ने संयुक्त रूप से कौशल विकास मिशन के कार्यों की समीक्षा

Union Minister, Skill Development and Entrepreneurship Dr. Mahendra Nath Pandey has jointly organized the State Industrial Training Institutes and UP Skill Development Mission with the Minister of State (Independent Charge) of Vocational Education and Skill Development, Kapil Dev Aggarwal.  Reviewed various training schemes and programs.Union Minister, Skill Development and Entrepreneurship Dr. Mahendra Nath Pandey has jointly organized the State Industrial Training Institutes and UP Skill Development Mission with the Minister of State (Independent Charge) of Vocational Education and Skill Development, Kapil Dev Aggarwal. Reviewed various training schemes and programs.

विमानन क्षेत्र के विस्तार को देखते हुये प्रदेश में एक संस्थान खोला जाना आवश्यक है : व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास राज्य मंत्री (स्वतन्त्र प्रभार), कपिल देव अग्रवाल


लखनऊ। केन्द्रीय मंत्री, कौशल विकास एवं उद्यमशीलता डाॅ महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने प्रदेश के व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास राज्य मंत्री (स्वतन्त्र प्रभार), कपिल देव अग्रवाल के साथ संयुक्त रुप से आज यहां अति विशिष्टि अतिथि गृह में राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों तथा उप्र कौशल विकास मिशन द्वारा प्रदेश में संचालित की जा रही विभिन्न प्रशिक्षण योजनाओं एवं कार्यक्रमों की समीक्षा की।





केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्लंबिंग के क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय स्तर के संस्थान की स्थापना के लिये नोएडा ग्रेटर नोएडा में भूमि आवंटित होने की प्रक्रिया से अवगत कराया जाये तथा भूमि आवंटित न होने की स्थिति में निर्देशित किया कि अन्य जनपदों यथा मेरठ, आगरा, मथुरा, कानपुर व वाराणसी में इस संस्थान की स्थापना किये जा सकने के सम्बन्ध विस्तृत अध्ययन रिर्पोट प्रेषित की जाये।






प्रदेश के व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास मंत्री कपिल देव अग्रवाल ने केन्द्रीय मंत्री को बताया कि विमानन क्षेत्र के विस्तार को देखते हुये प्रदेश में एक संस्थान खोला जाना आवश्यक है। इस क्षेत्र में रोजागर की अपार सम्भावनाओं को देखते हुये युवाओं को कौशल प्रदान किया जाना चाहिये। उन्होने केन्द्रीय मंत्री से अनुरोध किया कि विमानन क्षेत्र के कौशल संस्थान को खोलने के लिये केन्द्र सरकार से वित्तीय सहयोग वांछित है, जिस पर केन्द्रीय मंत्री ने पूर्ण सहयोग देने पर हामी भरी।
प्रदेश सरकार द्वारा स्थापित की गई गौशालाओं के संरक्षण व संचालन हेतु पाठ्यक्रम विकसित किये जाने की आवश्यकता पर बल देते हुये प्रदेश के व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास मंत्री, कपिल देव अग्रवाल ने केन्द्रीय मंत्री को बताया कि गौ सेवा के क्षेत्र में उद्यमिता की अपार सम्भावनायें हैं, जिनका लाभ प्रदेश के युवाओं को मिल सकता है। केंद्रीय मंत्री ने गौसेवा के क्षेत्र में कौशल विकास एवं उद्यमिता के प्रस्ताव पर कहा कि इस प्रकार का कार्य सम्पूर्ण देश में अनूठा होगा व इसकी स्थापना में केन्द्र सरकार पूर्ण सहयोग करेगी।



केन्द्रीय मंत्री ने प्रदेश के व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास मंत्री, कपिल देव अग्रवाल के अन्य सुझावों का स्वागत किया तथा कहा कि युवा मंत्री की ऊर्जा का प्रदेश के युवाओं को अत्याधिक लाभ प्राप्त होगा। गत अगस्त माह में कजान-रुस में सम्पन्न हुई विश्व कौशल प्रतियोगिता, 2019 में प्रदेश के 02 छात्रों को प्राप्त हुये मेडल के लिये केन्द्रीय मंत्री ने प्रदेश के विभागीय मंत्री व अधिकारियों को बेहतर प्रशिक्षण प्रदान कराने के लिये धन्यवाद दिया तथा दोनो छात्रों को केन्द्र सरकार की ओर से पुरुस्कृत किये जाने से अवगत कराया। उन्होने कहा कि विश्व स्तरीय प्रतियोगिताओं में भारत के छात्रों के जीतने के लिये यह आवश्यक है कि राज्य में उच्च स्तरीय संस्थान स्थापित किये जायें, जिस पर व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास मंत्री, कपिल देव अग्रवाल ने आश्वासन दिया कि केन्द्र सरकार द्वारा सहयोग किये जाने की स्थिति में प्रदेश में इस प्रकार का संस्थान जल्दी ही संचालित करा दिया जायेगा। अन्य योजनाओं की प्रगति की समीक्षा में केन्द्रीय मंत्री ने राज्य सरकार द्वारा किये गये कार्यों पर संतोष व्यक्त किया तथा प्रदेश सरकार को पूर्ण सहयोग दिये जाने आश्वासन दिया।



रिकग्नाइजेशन आफ प्रायर लर्निंग (आर0पी0एल0) के अन्तर्गत मिशन निदेशक द्वारा अवगत कराया गया कि उ0प्र0 कौशल विकास मिशन ने 03 लाख कृषकों तथा अप्रैल क्षेत्र के 01 लाख शिल्पकारों को प्रमाणीकृत करने की कार्ययोजना तैयार की गई है, जिसे स्वीकृति के लिये केन्द्र सरकार को भेजा गया है।



मिशन निदेशक ने कार्ययोजना के क्रियान्वयन हेतु बताया कि कुल रु0 104.00 करोड़ की धनराशि वांछित है। केन्द्रीय मंत्री ने कृषकों के प्रमाणीकरण हेतु सुझाव दिया कि वास्तविक क्षेत्र का अध्ययन कर योजना को क्रियान्वित कराया जाये, जिससे कि किसानों की आय दोगुनी किये जाने में तकनीकी मददगार सिद्ध हो।


समीक्षा बैठक में मिशन निदेशक, यूपी कौशल विकास तथा निदेशक, प्रशिक्षण एवं सेवायोजन, उप्र, कुणाल सिल्कू, तथा विशेष सचिव, व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास, मनमोहन चौधरी, मानपाल सिंह, अपर निदेशक (प्रशि0/शिशिक्षु), प्रशिक्षण एवं सेवायोजन निदेशालय, उप्र, एनएसडीसी, नई-दिल्ली तथा उप्र कौशल विकास मिशन के अधिकारी उपस्थित रहे।

epmty
epmty
Top