उत्तम प्रदेश निर्माण संगठन' के तत्वावधान में 'पश्चिमांचल एकता मंच' ने विशाल सम्मेलन का आयोजन किया

उत्तम प्रदेश निर्माण संगठन के तत्वावधान में पश्चिमांचल एकता मंच ने विशाल सम्मेलन का आयोजन किया

नई दिल्ली दक्षिणी पूर्वी दिल्ली के जामिया नगर में 'उत्तम प्रदेश निर्माण संगठन' के तत्वावधान में 'पश्चिमाञ्चल एकता मंच' ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश से बाहर दिल्ली में रहने वाले पश्चिमांचल समाज के लोगों के लिए अपनी पश्चिमांचली संस्कृति और भाईचारे को बढ़ावा देने हेतु एक विशाल सम्मेलन का आयोजन किया।

राष्ट्रीय अध्यक्ष अजय पँवार ने बताया कि दिल्ली की लगभग तीन करोड़ की जनसंख्या में से 40 प्रतिशत पश्चिमाञ्चल समाज के लोग निवास करते हैं लेकिन इसके बावजूद दिल्ली की राजनीति में कभी भी उन्हें आनुपातिक महत्व नहीं मिला।

राष्ट्रीय महासचिव अजय कुमार शर्मा ने कहा कि जिस तरह दिल्ली में पूर्वांचल के लोगों का अपना पूर्वांचली समाज एवं संस्कृति है। उत्तराखंड के लोगों का अपना उत्तराखंडी समाज एवं संस्कृति है, उसी प्रकार दिल्ली में पश्चिमाञ्चल के लोगों को अपने पश्चिमांचली समाज एवं संस्कृति की पहचान कायम रखनी होगी।

आम आदमी पार्टी के संस्थापक सदस्य जिया चौधरी ने कहा कि जिस प्रकार दिल्ली सरकार ने उत्तराखंडी समाज के लोगों के लिए एक सांस्कृतिक भवन की स्थापना की है, इसी तरह पश्चिमाञ्चल के लोगों के लिए भी एक पश्चिमाञ्चल भवन की स्थापना की जाए।

जामिया मिल्लिया के छात्र नेता अतीब खान ने बताया कि दिल्ली शहर संस्कृतियों से बना फूल का एक गुच्छा है जिस प्रकार पंजाबी संस्कृति, गुजराती संस्कृति, पूर्वांचली संस्कृति, बंगाली संस्कृति को बढ़ावा दिया जाता है उसी प्रकार पश्चिमांचली संस्कृति को महत्व दिया जाना अति आवश्यक है।

एरिया मार्केटिंग मैनेजर अरविंद कुमार ने कहा कि दिल्ली सरकार से मांग है की जिस प्रकार दिल्ली सरकार पूर्वांचल के त्यौहार छठ पूजा के लिए खर्च करती है उसी प्रकार वह पश्चिमाञ्चल वासियों के लिए आस्था के प्रतीक गंगा स्नान हेतु भी बजट का प्रावधान करे, जिससे दिल्ली में रहने वाले पश्चिमांचली लोगों को गंगा स्नान हेतु बसों की नि:शुल्क व्यवस्था हो।

यूथ महासचिव ललित राठी ने कहा कि जल्दी पश्चिमाञ्चल एकता मंच दिल्ली के कोने-कोने में फैले पश्चिमाञ्चल समाज को एक मंच पर लाने का काम करेगा और आने वाले चुनाव से पहले राजनीतिक रूप से भी जागरूक करेगा ताकि पश्चिमाञ्चल समाज की दिल्ली सरकार में भागीदारी सुनिश्चित की जा सके और जो भी राजनीतिक दल पश्चिमांचल समाज के हित की बात अपने घोषणा पत्र में करेगा, उसे ही समर्थन दिया जाएगा।

रिसर्च विंग अध्यक्ष चन्द्र शेखर आजाद ने कहा कि यमुनापार क्षेत्र, जामिया क्षेत्र की सभी विधानसभा सीटें पश्चिमाञ्चल समाज बहुल्य हैं जिनकी राजनीतिक दिशा और दशा आने वाले चुनाव में पश्चिमाञ्चल समाज ही तय करेगा अतः दिल्ली की राजनीति में पश्चिमाञ्चल समाज को हाशिए पर नहीं डालने दिया जाएगा।

वीके तेवतिया ने बताया कि पश्चिमाञ्चल एकता मंच का मुख्य उद्देश्य यह भी है की उनके पश्चिमी उत्तर प्रदेश को एक अलग राज्य उत्तम प्रदेश या पश्चिमाञ्चल के रूप में गठित किया जाए क्योंकि छोटे राज्य आर्थिक विकास का आधार हैं जब अलग-अलग भाषा और संस्कृति को ध्यान में रखकर अलग राज्य बनाए जा सकते हैं तो पश्चिमी उत्तर प्रदेश को अलग राज्य क्यों नहीं बनाया जा सकता।

इस मौके पर मुन्ना गौड़, संदीप, हाजी वारिस, अँकुर सेठी, राजन कुमार, संजीव मासूम, मिनाज, सतेंद्र बालियान, तौकीर,राजीव तोमर, अमरपाल, फखरे आलम मौजूद रहे।

सेहत

Top