भारत में सूचना क्रांति के जनक थे राजीव गांधी जयंती विशेष

भारत में सूचना क्रांति के जनक थे राजीव गांधी जयंती विशेष

नई दिल्ली। देश के छठवें प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 75वीं जयंती पर आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। राजीव गांधी पूर्व प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी के पुत्र और जवाहरलाल नेहरू के दौहित्र (नाती), भारत के छठे प्रधान मंत्री थे। राजीव गांधी 31 अक्टूबर 1984 से मृत्यु पर्यन्त 2 दिसंबर 1989 तक देश के प्रधानमंत्री रहे। वे 1984 में अपनी माता व पूर्व प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी की हत्या के बाद भारी मतों से चुनाव जीतकर देश के प्रधानमंत्री बने थे। कांग्रेस पार्टी राजीव गांधी को जयंती को सद्भावना दिवस के रूप में मनाती है। आज पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, सोनिया गांधी, कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की।

राहुल गांधी ने अपने पिता को याद करते हुए कहा कि राजीव गांधी की दूरदर्शी नीतियों से भारत के निर्माण में मदद मिली है। उन्होंने ट्वीट किया कि आज हम राजीव गांधी जी की 75वीं जयंती मना रहे हैं जो एक देशभक्त और दूरदर्शी व्यक्ति थे तथा जिनकी दूरदर्शी नीतियों ने भारत के निर्माण में मदद की।

राहुल गांधी ने कहा कि मेरे लिए वह एक बहुत प्यार करने वाले पिता थे, जिन्होंने मुझे सिखाया कि कभी नफरत नहीं करो, माफ करो और सभी इंसानों से प्यार करो।

बंबई में 20 अगस्त 1944 को राजीव गांधी का जन्म हुआ था। वे बचपन में बहुत ही संकोची स्वभाव के थे। जानकार बताते हैं कि जब वे दून स्कूल में पढ़ रहे थे, तब उनके नाना पंडित जवाहरलाल नेहरू पहली बार उनसे मिलने स्कूल पहुंचे तो राजीव बाथरूम की बास्केट में छिप गए थे।वह 40 की उम्र में देश के सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री बने थे। राजीव गांधी एक फ्लाइंग क्लब के मैंबर भी थे, जहां से उन्होंने सिविल एविएशन की ट्रेनिंग भी ली थी। 1970 में उन्होंने एक पायलट के तौर पर एयर इंडिया ज्वाइन किया था। राजीव का विवाह इटली की नागरिक एन्टोनिया मैनो से हुआ था, विवाह के उपरांत उनकी पत्नी ने नाम बदलकर सोनिया गांधी कर लिया था।

नई दिल्ली देश में बिजली, तकनीक और कंप्यूटर सेवा बहाल करने पर उनका हमेशा से जोर था और आज देश में अगर इतनी तेजी से कंप्यूटर तकनीक बदली है तो इसमें राजीव गांधी का योगदान अमूल्य माना जाएगा।

जानकारों की मानें तो राजीव गांधी को हिन्दुस्तानी शास्त्रीय और आधुनिक संगीत पसंद था। उन्हें रेडियो सुनने तथा फोटोग्राफी का भी शौक था। राजीव गांधी को सुरक्षाकर्मियों का घेरा बिलकुल पसंद नहीं था। वे अपनी जीप खुद ड्राइव करना पसंद करते थे।

चुनावों का प्रचार करते हुए 21 मई, 1991 को तमिल आतंकवादियों ने राजीव की एक बम विस्फोट में हत्या कर दी। उनके दो बच्चों में से एक अविवाहित पुत्र राहुल गांधी और एक विवाहित पुत्री प्रियंका गांधी वाड्रा हैं। राजीव गांधी खेल रत्न भारत का खेल जगत में दिया जाने वाला सर्वोच्च सम्मान है। इक्कीसवीं सदी के भारत का निर्माण उनका प्रमुख उद्देश्य था।

राजीव गांधी भारत में सूचना क्रांति के जनक माने जाते हैं। देश के कंप्यूटराइजेशन और टेलीकम्युनिकेशन क्रांति का श्रेय उन्हें जाता है। स्थानीय स्वराज्य संस्थाओं में महिलाओं को 33 प्रतिशत रिजर्वेशन दिलवाने का काम उन्होंने किया साथ ही मतदाता की उम्र 21 वर्ष से कम करके 18 वर्ष तक के युवाओं को चुनाव में वोट देने का अधिकार राजीव गांधी ने दिलवाया था।

Top